Daily Archives

Jan 20th, 2012

पंजाब में चुनावों की घोषणा

(दीपक अरोड़ा, होशियारपुर)  पंजाब में चुनाव घोषणा के साथ ही राजनीति गरमा गई है। पार्टियों की तरफ से उम्मीदवार की घोषणा भी  हो गई है। पंजाब में ठंड में गरमाई राजनीति में मुख्य पार्टियां भाजपा अकाली दल तथा कांग्रेस में ही मुख्य मुकाबला…

जवान कंधे

(शेर सिंह मेरुपा, कुल्लू)  अंतिम यात्रा पे हंै   दर्द और दुखों की यात्रा  बटोर रहे हैं  अपने बच्चों को  बिना किसी जानकारी के  हर कहीं छोड़ रहे हैं  तभी तो बेवक्त  राख से अस्थियों को बटोर रहे हैं

पर्वों की पहचान डीए और एरियर

(*सुरेश कुमार, योल)  पहले राष्ट्रीय या राज्य के महत्त्व वाले दिनों को बड़े हर्षोल्लास से मनाया जाता था। उस दिन देशभक्तों को याद किया जाता था, जिन्होंने स्वतंत्रता के लिए आहुतियां दीं, उनका आभार प्रकट किया जाता था। पर्व मनाने का नजरिया…

और यह भी…

(राधा पठानिया, नदौन) हिमाचल में करोड़ों का दाल घोटाला हो गया। विभाग ने कार्रवाई मंे मात्र दो अफसरों को चार्जशीट कर दिया। जनता को दिखाने के लिए कुछ न कुछ तो करना ही पड़ेगा। दो चार दिन बाद मामला फाइलों में दफन  और ये अफसर भी बहाल। डिपो…

एक बार सीएफएल नाकाफी

 (विजय कुमार, मटौर ) प्रदेश की धूमल सरकार  ने अटल विद्युत योजना चलाकर एक सराहनीय कार्य किया। लोगों को सीएफएल बांटे गए, जिससे कि बिजली की बचत हुई। लोगों ने भी इस कार्य को सराहा। पर क्या यह काम एक ही बार करना था, एक ही बार हिमाचली लोगों की…

जिलाधीश करेंगे हिमाचली हस्ताक्षर

सरकार की सदाशयता और उम्मीदों के हस्ताक्षर वास्तव में जिलार्धीश ही करते हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने उपायुक्तों की भूमिका में सरकार के स्पर्श का एहसास कराने की नई परिपाटी विकसित करते हुए जो पैगाम दिया है, उसका महत्त्व दिखाई…

सिरमौर के पिछड़ेपन का दोषी कौन

(प्रेमपाल महिंद्रू, नाहन) इसमें कोई दो राय नहीं कि जिला सिरमौर के पिछड़ेपन के लिए यहां के नेताओं को दोषी माना जाए। अजीब सी राजनीति है यहां के राजनीतिज्ञों की। इनका एकमात्र ध्येय चुनाव लड़ना और किसी भी तरह जीत हासिल कर विधानसभा तक…

ज्ञान कोष पर लगाम

भारत में सोशल नेटवर्किंग पर अंकुश को लेकर छेड़ी बहस के बाद अमरीका द्वारा विकी पीडिया तथा अन्य वेबसाइटों पर शिकंजा कसने की पेशकश पर मिश्रित प्रतिक्रिया होना स्वाभाविक है। अमरीकी संसद में इंटरनेट पायरेसी रोकने के लिए दो विधेयक सोपा (स्टाप…

पारदर्शिता के आंदोलन का भविष्य

(प्रो. एनके सिंह ,लेखक, एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन हैं) अन्ना की समस्या उनकी मासूमियत है। उन्होंने ऐसे लोगों का विश्वास किया जो विश्वसनीय नहीं थे। जाहिर है कि भारत का कोई भी नेता विश्वास के काबिल नहीं है... बाबा रामदेव के…

प्रदेश पुलिस में खिलाडि़यों को प्रशिक्षण का अभाव

(भूपिंद्र सिंह,लेखक, पेनल्टी कार्नर खेल पत्रिका के संपादक हैं) हिमाचल पुलिस के पास कबड्डी, मुक्केबाजी, एथलेटिक तथा अन्य कई और खेलों में बहुत अच्छे-अच्छे खिलाड़ी पिछले चार-पांच वर्षों में भर्ती हुए हैं। मगर उन्हें सही प्रबंधन तथा उचित…