Monthly Archives

February 2012

गलत राह पर क्यों

(मुकेश विग, ठोडो ग्राउंड मोड़, सोलन)  हमारे देश में नारी की पूजा होती है। उन्हें ऊंचा दर्जा दिया जाता है। सरकार भी महिला कर्मचारियों पर पुरुषों से कहीं ज्यादा मेहरबान रहती है। छुट्टियों, वेतन, टैक्स छूट तथा ऐसे ही अन्य मामलों में उन्हें…

बजट कैसा हो

 (जग्गू नौरिया, सोलन) पकड़ लिया जोर इस बात ने आया जब सीएम जी का यह बयान बजट हो कैसा, अब की बार सुझाव भेजे इनसान सोच अच्छी, अच्छा दिया जनता को मान इस बात की तनिक शंका नहीं, सब ने सहारा खूब यह बयान कोई लिखे जमीन से जुड़े…

गौसदन किसके लिए

(प्रेमपाल महिंद्रू, अमरपुर , नाहन)नाहन शहर से थोड़ा हटकर स्थानीय नगरपालिका परिषद द्वारा गौसदन बनाया गया है, जिसका एकमात्र उद्देश्य शहर में घूमने वाली लावारिस तथा गौवंश से ही संबंधित आवारा सांड, बैल, बछडे़ इत्यादि को पकड़कर इस गौसदन तक…

बोर्ड परीक्षाओं में बढ़ती नकल की प्रवृत्ति

(केसी शर्मा,लेखक, सेवानिवृत्त प्रिंसीपल, जवाली से हैं) बोर्ड इस बार भी काफी होम वर्क कर रहा है, देखते हैं परिणाम कैसे रहते हैं। बोर्ड की अब तक की असफलता के पीछे सबसे बड़ा कारण सभी स्कूलों में परीक्षा केंद्रों का होना है, जबकि 80 प्रतिशत…

मालदीव लोकतंत्र में भारत की भूमिका

(कोमल, शाहपुर) भारत के दक्षिण-पश्चिमी छोर से महज कुछ ही दूरी पर स्थित मालदीव में वर्तमान हालात चिंताजनक बने हुए हैं। जिस तरह मालदीव के राष्ट्रपति से अधिनायकवादी रूप से इस्तीफा लिया गया, वह लोकतंत्र के लिए काफी घातक सिद्ध हो सकता है। हिंद…

जुड़नी चाहिए नदियां

सुप्रीम कोर्ट ने देश की नदियों को जोड़ने की महत्त्वाकांक्षी परियोजनाओं को समयबद्ध तरीके से लागू करने का निर्देश देकर लंबे अरसे से निलंबित परियोजना का मार्ग प्रशस्त किया है। इसे एक विडंबना ही कहा जाएगा कि वर्ष 2002 में देश में पड़े भयंकर…

संविधान से टकराना ही क्यों

(प्रदीप सौरभ,लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं) संविधान और संवैधानिक संस्थाओं से टकराना कांग्रेस की पुरानी परंपरा रही है। आपातकालीन में इंदिरा गांधी ने देश की जनता के मौलिक अधिकार ही खत्म कर दिए थे और 18 महीने शासन किया था लेकिन जनता ने बाद में…

शहर करेंगे आर्थिक विकास

हिमाचल में विकास की शहरी तड़प या शहर जैसी सुविधाओं की कोख से निकली आशाएं जब गूंजती हैं, तो हम दिशा भ्रम में भटक जाते हैं। शहरीकरण को संबोधित करने के बजाय नए जिलों के गठन के साथ हम कुछ मुख्यालयों का शहरी विकास ही तो खोज रहे हैं। यह तड़प…

धर्मशाला में महारैली

धर्मशाला — केंद्र्रीय ट्रेड यूनियन ने अपनी मांगों को लेकर अंदोलन उग्र कर दिया है। इसके चलते मंगलवार को धर्मशाला जिला उपायुक्त कार्यालाय में विभिन्न 11 संघों ने मिलकर रैली निकालकर धरना-प्रदर्शन कर हड़ताल की है। संघ ने अपनी मांगांे को लेकर…

कुमार हाउस के बाहर नारे

 शिमला — बिजली बोर्ड सर्व कर्मचारी महासंघ  ने मंगलवार को बोर्ड मुख्यालय कुमार हाउस के बाहर धरना दिया और नारेबाजी कर अपना आक्रोश निकाला। कर्मचारियों ने आरोप लगाया कि भ्रष्ट तंत्र में बिजली बोर्ड की अफसरशाही भी भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रही है,…