Monthly Archives

August 2012

जल में अब जीवन बना दुश्वार

{कृष्ण संधु,कुल्लू} जलीय जीवन पर इस समय इतने खतरे मंडरा रहे हैं, कि एक दिन इनका वजूद ही खत्म हो जाएगा, और इन्हें सिर्फ तस्वीरों में ही देखा जा सकेगा।  घटवाल जी ने सिर्फ  जहर या अवैध शिकार की बात की है, लेकिन यहां तो हर तरह से इनका…

भारत में मीडिया तथा आचार-शास्त्र

{प्रो. एनके सिंह ,लेखक, एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ  इंडिया के पूर्व चेयरमैन हैं} इंटरनेट जनसाधारण का हिमायती बनकर उभरा था, लेकिन अब सरकार इसकी ताकत को भी कुंद करने पर तुली है। अन्ना और रामदेव वैसे ही असमंजस में हैं और आखिरकार ऐसा प्रतीत होता है…

टीम अन्ना एक जुट क्यों नहीं?

{कैलाश ठाकुर, नया लोरन, कुल्लू} हिंदी में एक कहावत है ‘नाना मुनि नाना मति’ यह कहावत टीम अन्ना के सदस्यों पर चरितार्थ हो रही है। यह टीम भ्रष्टाचार के खिलाफ बिखराव की स्थिति में काम कर रही है। कोई सदस्य राजनीतिक पार्टी के पक्ष में है, तो…

कल का अखबार

{ज्ञान चंद, सरकाघाट} कौन-कौन सफेदपोश देश को लूटेंगे हक मांगने वालों पर कहां-कहां आंसू गैस के गोले फूटेंगे कितने बलात्कारी जेल से साफ छूटेंगे सब पता है मुझे मत फेंकना मेरे घर कल का अखबार।

श्रेष्ठता पुरस्कार वितरण समझ से परे

{ज्ञान चंद शर्मा, ढगवानी, सरकाघाट} समाज में उत्कृष्ट कार्य करने वाले को प्रोत्साहन और प्रशंसा तो मिलनी ही चाहिए। इससे जहां दूसरों को प्रेरणा मिलती है, वहीं अच्छे लोगों के प्रति कृतज्ञता प्रकट करने का पुनीत कार्य भी हो जाता है। इसी तरह की…

कैग का पक्ष

अभी जबकि कोयला ब्लाक आबंटन पर कांग्रेस और विपक्ष, विशेषकर भाजपा में सियासी जंग छिड़ी है, नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने अपना पक्ष प्रस्तुत कर स्थिति स्पष्ट करने की पहल की है। सरकार की ओर से ही नहीं, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी अपने…

बारिश और शराब

{अशोक बहल, कांगड़ा} शराब पीने वालों को तो पीने का कोई न कोई बहाना चाहिए। बरसात के मौसम में, बारिश का माहौल शराब पीने के लिए बढि़या बहाना है। बरसात में मादकता है। आज शराब पीने वालों की संख्या बहुत बढ़ गई हैं। इससे शराब की मांग बढ़ गई हैं।…

और यह भी…

{कंचन शर्मा, नालागढ़} कसाब की फांसी सुप्रीम कोर्ट ने बरकार रखी है। फांसी होगी कब यह कोई नहीं जानता। क्योंकि कसाब के पास दो-तीन विकल्प हैं और आखिर में राष्ट्रपति के पास दया याचिका। कसाब का इस फेहरिस्त में 28 वां नंबर होगा। तालिबान होते तो…

शूटर विजय को राजीव गांधी खेल रत्न अवार्ड

{भूपिंदर सिंह,लेखक, पेनल्टी कार्नर खेल पत्रिका के संपादक हैं} हर वर्ष यह अवार्ड किसी एक खिलाड़ी को उत्कृष्टतम प्रदर्शन करने पर दिया जाता है, मगर इस बार विजय कुमार को यह अवार्ड, पहलवान योगेश्वर दत्त के साथ दिया गया है। इस अवार्ड के मिलने…

दरारों से झांकता शिमला

दरारें राजनीति के आर-पार और इनके भीतर झांकता हिमाचली वजूद विधानसभा तथा बाहर अपनी शिनाख्त कर रहा है। वीरभद्र सिंह का पदार्पण कांग्रेस की दरारों को कितना भरेगा या विधानसभा सत्र की दरारों से बाहर निकलता विपक्ष कितना विवश रहा होगा, यह चर्चा का…