लक्कड़ बाजार में पानी ही पानी

 शिमला — राजधानी शिमला के लक्कड़ बाजार बस अड्डे में बहते पानी ने दुकानदारों और यात्रियों के लिए परेशानी खड़ी कर रखी है। ऊपर की ओर से पानी का रिसाव हो रहा है, जिससे यहां एक चश्मा चल रहा है। हालांकि ये पानी लोगों के पीने के काम आता है, मगर बहता हुआ पानी परेशानी का भी सबब बना हुआ है। प्रशासन द्वारा पानी को व्यवस्थित ढंग से निकासी के लिए कोई प्रबंध नहीं किया गया है, जिस कारण यहां से आने जाने वाले लोग परेशान है। यही नहीं, बस अड्डे पर चारों तरफ पानी फैला रहता है, जिससे यात्रियों को दिक्कत होती है। हर तरफ पानी फैले होने के चलते लोग अपना सामान जमीन पर नहीं रख सकते, वहीं वहां से चलने वाले वाहनों से पानी उछलकर लोगों पर पड़ता है। ऐसे में आए दिन किसी न किसी व्यक्ति के कपड़े गंदे हो जाते हैं। यही नहीं, यहां पर मौजूद दुकानदारों का सामान भी खराब होता है, वहीं ये पानी क्लॉक रूम में भी घुस जाता है, जिससे वे लोग भी परेशान हैं। प्रशासन इस प्राकृतिक चश्मे के पानी की निकासी का कोई समाधान नहीं कर रहा है। ये पानी नीचे ईदगाह कालौनी की तरफ जा रहा है, जहां पर नाले में काफी ज्यादा मलबा पड़ा है। मलबा होने के चलते नाले से भी पानी सही तरह से नहीं निकल पा रहा और ये पानी ही लोगों के घरों में घुसने लगा है। ईदगाह के लोग भी इससे खासे परेशान हैं और प्रशासन से इसकी सही व्यवस्था की मांग उठा रहे हैं। गर्मियों के दिनों में ये प्राकृतिक चश्मा लक्कड़ बाजार में लोगों के लिए वरदान साबित होता है, लेकिन इन दिनों इससे खासी परेशानी हो रही है। यदि प्रशासन इसकी निकासी के लिए एक नाली बनाए तो पानी वहां से निकल सकता है, जिससे लोगों को कोई दिक्कत नहीं होगी। स्थानीय दुकानदारों का कहना है कि नाली की व्यवस्था करवाई जाए, वहीं चश्मे को भी सही ढंग से बनाया जाए, क्योंकि इसके आसपास काफी ज्यादा गंदगी रहती है। ये पानी पथ परिवहन निगम के टिकट काउंटर के रास्ते में भी खड़ा रहता है और खड़े पानी में मच्छर, आदि काफी ज्यादा पनपते हैं।

You might also like