सेवानिवृत्ति के 60 वर्ष करना कितना घातक

(मनशा राम, बलद्वाड़ा, मंडी)

हिमाचल प्रदेश वर्तमान में जहां बेरोजगारी की समस्या से निपटने के लिए जूझ रहा है, वहां सात सितंबर के अखबार में छपी खबर के अनुसार सरकार कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति की आयु 60 वर्ष करने जा रही है। सरकार को इस तरह के फैसले सोच समझ कर ही लेने चाहिए। वर्तमान समय में यदि एक सरकारी कर्मचारी सेवानिवृत्त होता है तो उसके वेतन से चार अनुबंध कर्मचारी रखे जा सकते हैं। यदि सरकार यह सोचती है कि कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति आयु 60 वर्ष करने से कर्मचारी खुश होंगे और आने वाले चुनाव में सरकार को समर्थन देंगे, शायद ठीक नहीं है। लाखों बेरोजगार, जो रोजगार की आस में लाइन में खड़े हैं, सरकार के विरोध में जाएंगे। सरकारी कर्मचारियों को भी चाहिए कि बढ़ती बेरोजगारी में इस प्रकार के गलत फैसले लेने के लिए सरकार पर दवाब न डाले। हर सरकारी कर्मचारी के घर में कोई न कोई बच्चा बेरोजगार भी बैठा है।

 

You might also like