Daily Archives

Sep 7th, 2012

रसोई गैस का सत्यापन कितना सही

(स्वदेश शर्मा, अंब) आजकल एक मुहिम प्रदेश में चली हुुई है, कि रसोई गैस कनेक्शन सत्यापित करवाओ। एक राशन कार्ड पर एक ही कनेक्शन दिया जाएगा। यह आदेश न जाने केंद्र ने निकाले हैं या फिर प्रदेश सरकार इस संदर्भ में एक ही बात सामने आती है कि इससे…

और यह भी…

(पंकज शर्मा, मनाली) सरकार ने खर्चा कम करने के लिए नायाब तरीका ढंूढा। अब दूसरे शनिवार के साथ चौथे शनिवार को भी सरकारी कार्यालयों में छुट्टी। सरकारी काम तो पहले ही कछुआ चाल चलता है, अब और मुश्किल हो जाएगी। सरकार खर्चा कम करने के लिए…

अंतर महाविद्यालय खेलों में नाममात्र की भागीदारी

(भूपिंदर सिंह,लेखक, पेनल्टी कार्नर खेल पत्रिका के संपादक हैं) अंतर महाविद्यालय खेलों में खिलाडि़यों को आकर्षित करने के लिए महाविद्यालय प्रशासन तथा शारीरिक शिक्षा विभाग को मिलकर योजना बनाकर चलना होगा, नहीं तो ये खेल केवल औपचारिकता मात्र…

शिक्षकों को सम्मान

(शिवा सरगम, सिरमौर) शिक्षा विभाग प्रति वर्ष अध्यापक दिवस पर उत्कृष्ट कार्य करने वाले अध्यापकों को सम्मानित करने का सराहनीय प्रयास करता है। इससे अध्यापकों को प्रोत्साहन मिलता है और साथ ही उन्हें निष्ठापूर्वक देश सेवा करने की प्रेरणा मिलती…

कब लगेगी सेफ्टी वाल

(जगदीश कुमार, बिलासपुर) हिमाचल प्रदेश एक पहाड़ी क्षेत्र है। यहां यातायात मुख्यतः सड़कों पर ही निर्भर करता है। सड़कों को हिमाचल की जीवन रेखा कहा जाए तो अतिशयोक्ति नहीं होगी। पर यही जीवन रेखा जिंदगी का लेखा-जोखा भी रखती है। हर साल सड़क…

मजाक की हद पर प्रधानमंत्री

मौन को हथियार माना गया है, लेकिन अंतर्मुखी जगत में। भीतरी संवेदनाओं के सार को समझने की सायास कोशिश सार्थक साबित हो सकती है, लेकिन आध्यात्मिक संसार में। राजनीति के मंच पर बड़बोलेपन की उम्र कम आंकी जाती है तो मौन की परिभाषा गढ़ना भी संशयों की…

औलाद

(ज्ञान चंद, सरकाघाट) जीवन में कैसे-कैसे दिन दिखलाए औलाद कभी सोने को माटी कभी माटी को सोना बनाए औलाद। फूलों की सेज कभी कभी कांटों का ताज बन जाए औलाद। झुके न जो सर शहनशाहों के दर पर सरे बाजार उन्हें भी…

प्रधानमंत्री की कविता

(प्रो. एनके सिंह ,लेखक, एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन हैं) कोयला अब करीब 37 अरब डालर का घोटाला बन चुका है। संसद ठप पड़ी है और राजनीतिज्ञ अपना-अपना खेल रहे हैं जबकि देश औंधे मुंह गिर चुका है। इस स्थिति में देश का नेता आखिर…

हिमाचल में सरकारी नौकरी की फांस

बेशक हिमाचल में सरकारी कर्मचारी के प्रति राज्य का खजाना सदा उदार रहा है, लेकिन निजी क्षेत्र में प्रदेश की रोजगार संभावनाओं का प्रतिफल सामने नहीं आया है। रोजगार कार्यालयों के बाहर गिड़गिड़ाते सपने, राजनीतिक मंचों का भ्रमजाल और क्षमता का…

गुम्मा में दुग्ध अभिशीतन केंद्र जनता के हवाले

शिमला — बागबानी, तकनीकी शिक्षा एवं स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्री नरेंद्र बरागटा ने गुरुवार को जुब्बल-कोटखाई क्षेत्र के अंतर्गत गुम्मा में 35 लाख रुपए की लागत से निर्मित दुग्ध अभिशीतन केंद्र को जनता को समर्पित किया। इस यंत्र की क्षमता…