Monthly Archives

October 2012

परिवेश की रक्षा में सियासी सुर खामोश

(गुमान सिंह लेखक, हिमालय नीति  अभियान के संयोजक हैं) पिछले दस सालों में नदी-नालों को जल विद्युत परियोजनाओं के निर्माण के लिए बेचा जाना शुरू हुआ। हिमाचल में इन बंाधों व बिजली परियोजनाओं के निर्माण, सीमेंट उद्योग, खनन, वन उत्पादों की…

और यह भी…

(शगुन हंस, योल) पिछले छह महीने में केंद्र सरकार ने तीन बार रेल मंत्री बदल दिए और चीन सीमा के पास 14 रेल लाइनें बिछा चुका है। इस हिसाब से तो चीन से मुकाबला करना मुश्किल है। अब चीन 1962 वाला नहीं है कि हार जाए।

सैंडी की चुनौतियां

अमरीका के पूर्वी हिस्से में अब तक के सबसे भयानक चक्रवाती तूफान सैंडी ने, जो चुनौतियां पेश की हैं, उनकी अमरीका के ताजा इतिहास में मिसाल मिलनी मुश्किल है। अमरीका में गत 23 साल में पहली बार ऐसा तेज रफ्तार व मारक तूफान देखा गया है, जिससे छह…

कीमती वोट किसे दें

(किशन सिंह अग्रवाल, सतौन) अपना कीमती वोट किसे दें? यही प्रश्न सभी के दिलो-दिमाग में समाया है। सामने जैसे स्वयंवर सभा सजी हो। जनता उसी ऊहापोह में चुनाव किसका हो, किंकर्त्तव्यविमूढ़ की सी स्थिति में है। हर चेहरे के नीचे एक ओर चेहरा, असली…

विदेशी की ओर दौड़

(प्रेमनाथ जोशी, होशियारपुर) भारतजब सोने की चिडि़या था तो मुस्लिमों द्वारा लुटता देख कर अंग्रेज भी लूटने के लिए आ गए। भारत-जब जगत गुरु कहलाता था तो दुनिया भर के जिज्ञासु पढ़ने के लिए नालंदा में आया करते थे। अब जब घपलेबाजों और घोटालाबाजों…

समाजवाद बनाम निजी क्षेत्र

तब मणिशंकर अय्यर यूपीए सरकार में ही पेट्रोलियम मंत्री थे और वह भारत-ईरान और लेटिन अमरीका के कुछ देशों के बीच पेट्रोलियम कूटनीति में सक्रिय थे। रिलायंस इंडस्ट्रीज़ के अध्यक्ष मुकेश अंबानी उनसे मुलाकात करने ‘शास्त्री भवन’ आते थे। उन्हें या तो…

मन के जीते जीत

(जगदीश जमथली, बिलासपुर) एक विधानसभा क्षेत्र, उम्मीदवार दस खडे़ हो जाते हैं, परंतु जीतता तो एक ही है, अन्य को तो हार का सामना करना पड़ता है, लेकिन धैर्य तो रखना पड़ता है। कहते हैं ‘मन के हारे हार, मन के जीते जीत’ यदि हारने वाले उम्मीदवार…

विरोध के बहाने कमाई

(चिन्मय मिश्र कार्यकारी संपादक सप्रेस) भाजपा नेताओं का ध्यान जनता के लिए गैस सिलेंडर का कोटा बढ़ाए जाने, वैट कर में कमी की कार्रवाई करने के बजाए सड़कों पर चक्का जाम करने, केंद्र सरकार के विरोध में नारे लगाने पर अधिक दिखाई देता है। ऐसे…

आत्मदाह करता तिब्बत

(शेर सिंह मेरुपा, बिलिंग लाहुल स्पीति) श्मशान की जमीन को पानी मिल रहा है हंसता मुस्कराता हुआ चेहरा राख के ऊपर फूल बनकर खिल रहा है चिता की लकडि़यों के ढेर नजर न आए कहीं शुभकामनाओं की सैर कफन फैल रहा मां की गोद से छूटा…

कंडाघाट में दहाड़ीं स्मृति ईरानी

कंडाघाट — सोमवार को कंडाघाट के पड़ाव मैदान में जैसे ही भाजपा महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष स्मृति ईरानी पहुंची, पूरा का पूरा कंडाघाट क्षेत्र बीजेपी  जिंदाबाद के नारों से गूंज उठा। पड़ाव मैदान पर पहुंचे सोलन के भाजपा कार्यकर्ताओं ने…