शिवसंकल्प सूक्त से करें संकल्प परिष्कार

Jan 3rd, 2015 12:20 am

नया वर्ष स्व मूल्यांकन का समय माना जाता है। व्यक्ति अपनी सोच, आदतों और दृष्टिकोण का मूल्यांकन करता है। मूल्यांकन की यह प्रक्रिया कुछ नए संकल्पों के साथ समाप्त होती है। भारतीय मनीषा यह मानती है कि संकल्प ही सृष्टि का कारण है। जैसे संकल्प होते हैं वैसी ही स्थितियों का सृजन होती है। शिव संकल्पसूक्त संकल्पों के परिष्कार और शुभ संकल्पों को मन में स्थापित करने का एक वैदिक आवाहन है…

ASTHAयजुर्वेद में मन को शुभ संकल्पों से युक्त करने की महत्वाकांक्षा बहुत ही काव्यमयी और सरस तरीके से अभिव्यक्त हुई है। यहां मन की महिमा का विशद और सूक्ष्म विवेचन है। यजुर्वेद के 34 वें अध्याय में मन को शुभ संकल्पों से युक्त बनाने की प्रार्थना ‘शिव संकल्पसूक्त’ के रूप में अभिव्यक्त हुई है। रुद्राष्टाध्यायी पुस्तक शुक्ल यजुर्वेद के विशिष्ट प्रधान सूक्तों व मंत्रों- जैसे शिवसंकल्प सूक्त, पुरुषसूक्त, आदित्यसूक्त, वज्रसूक्त, रूद्रसूक्त इत्यादि का अद्भुत संकलन है। रुद्राष्टाध्यायी के प्रथम अध्याय, जिसमें कुल 10 श्लोक हैं, के अंतिम छः श्लोक ही शिव संकल्पसूक्त हैं, जो शुक्ल यजुर्वेद के 34 वें अध्याय का अंश हैं। इस सूक्त में आधुनिक मनोविज्ञान के दर्शन होते हैं। इस सूक्त में विविध तरीकों से मन को शुभ संकल्पों से भरने के लिए प्रार्थना की गई है। नव वर्ष संकल्पों को लेने का समय है। शिव संकल्प सूक्त हमारे संकल्पों के परिष्कार कर और परिष्कृत संकल्पों को मन में स्थापित करने में अतीव सहायक है। शिव संकल्प सूक्त हमारे मन में शुभ व पवित्र विचारों की स्थापना हेतु एक आवाहन है। मन हमारी इंद्रियों का स्वामी है। एक तरफ हमारीं इंद्रियां भौतिक विषयवस्तु की तथ्यसूचना प्रदान करने का कार्य करती हैं, वहीं हमारा मन इन इंद्रियों में ज्ञानरूपी प्रकाश बनकर इन तथ्यों का विश्लेषण कर व उनको निर्देश प्रदान कर हमारे विचारों के रुप में हमें यथोचित कर्म करने हेतु उत्प्रेरित करता है।  इस प्रकार हमारा मन जितना शुभसंकल्प युक्त होता है, हमारा जीवन व इसका अभीष्ट कर्म उतना ही शुभ, सुंदर, पवित्र और समग्र होता है।

शिवसंकल्प सूक्त

यज्जाग्रतो दूरमुदैति दैवं तदु सुप्तस्य तथैवैति ।

दूरंगमं ज्योतिषां ज्योतिरेकं तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु ॥1॥

वह दिव्य ज्योतिमय शक्ति (मन) जो हमारे जागने की अवस्था में बहुत दूर तक चला जाता है, और हमारी निद्रावस्था में हमारे पास आकर आत्मा में विलीन हो जाता है,वह प्रकाशमान स्रोत जो हमारी इंद्रियों को प्रकाशित करता है, ऐसा मेरा मन शुभसंकल्प युक्त हो।

येन कर्माण्यपसो मनीषिणो यज्ञे कृण्वन्ति विदथेषु धीराः।

यदपूर्वं यक्षमन्तः प्रजानां तन्मे मनः  शिवसङ्कल्पमस्तु  ॥2॥

जिस मन की सहायता से ज्ञानीजन कर्मयोग की साधना में लीन यज्ञ,जप,तप करते हैं,वह जो सभी जनों के शरीर में विलक्षण रुप से स्थित है, ऐसा मेरा मन शुभसंकल्प युक्त  हो।

यत् प्रज्ञानमुत चेतो धृतिश्च यज्ज्योतिरन्तरमृतं प्रजासु ।

यस्मान्न ऋ ते किन कर्म क्रियते तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु  ॥3॥

जो मन ज्ञान, चित्त व धैर्य स्का स्वरूप है तथा अविनाशी आत्मा से युक्त इन समस्त प्राणियों के भीतर ज्योति स्वरूप विद्यमान है, ऐसा मेरा मन शुभसंकल्प युक्त हो।

येनेदं भूतं भुवनं भविष्यत्परिगृहीतममृतेन सर्वम् ।

येन यज्ञस्तायते सप्तहोता तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु॥4॥

जिस शाश्वत मन द्वारा भूत,भविष्य व वर्तमान काल की सारी वस्तुएं सब ओर से ज्ञात होती हैं और जिस मन के द्वारा सप्तहोत्रिय यज्ञ (सात ब्राह्मणों द्वारा किया जाने वाला यज्ञ) किया जाता है, ऐसा मेरा मन शुभसंकल्प युक्त हो।

यस्मिन्नृचः साम यजूंषि यस्मिन् प्रतिष्ठिता रथनाभाविवाराः ।

यस्मिंश्चित्तं सर्वमोतं प्रजानां तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु  ॥5॥

जिस मन में ऋ ग्वेद की ऋ चाएं व सामवेद व यजुर्वेद के मंत्र उसी प्रकार स्थापित हैं, जैसे रथ के पहिए की धुरी से तीलियां जुड़ी होती हैं। जिसमें सभी प्राणियों का ज्ञान कपड़े के तंतुओं की तरह बुना हुआ होता है, ऐसा मेरा मन शुभसंकल्प युक्त हो।

सुषारथिरश्वानिव यन्मनुष्यान् नेनीयतेऽभीशुभिर्वाजिन इव ।

हृत्प्रतिष्ठं यदजिरं जविष्ठं तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु  ॥6॥

जो मन, मनुष्य को इंद्रियों को उसी प्रकार नियंत्रित करता है अथवा विषय-वासनाओं का चक्कर लगाने के लिए प्रेरित करता है, जैसे एक कुशल सारथी लगाम द्वारा रथ के वेगवान अश्वों को नियंत्रित करता व दौड़ाता है। जो अजर तथा अति वेगवान है व प्रणियों के हृदय में स्थित है, ऐसा मेरा मन शुभसंकल्प युक्त हो।

Himachal List

Free Classified Advertisements

Property

Land
Buy Land | Sell Land

House | Apartment
Buy / Rent | Sell / Rent

Shop | Office | Factory
Buy / Rent | Sell / Rent

Vehicles

Car | SUV
Buy | Sell

Truck | Bus
Buy | Sell

Two Wheeler
Buy | Sell

Polls

क्या आपको सरकार की तरफ से मुफ्त मास्क और सेनेटाइजर मिले हैं?

View Results

Loading ... Loading ...


Miss Himachal Himachal ki Awaz Dance Himachal Dance Mr. Himachal Epaper Mrs. Himachal Competition Review Astha Divya Himachal TV Divya Himachal Miss Himachal Himachal Ki Awaz