Daily Archives

Jan 3rd, 2015

Storm in the Sky for Airlines

Prof.  N.K. Singh A jet plane of Air Asia flying from Indonesia to Singapore disappeared from the radar midway . Anyone can be touched by his daughter message on twitter 'papa come back I need you'. But the plane could not be tracked for…

Himachal’s Status as a Peaceful State Eroding

BR Koundal It seems that there is no administration in Himachal because problems of common people are increasing even as the government has completed its two years in office. The government is apparently busy in settling scores with…

शिवसंकल्प सूक्त से करें संकल्प परिष्कार

नया वर्ष स्व मूल्यांकन का समय माना जाता है। व्यक्ति अपनी सोच, आदतों और दृष्टिकोण का मूल्यांकन करता है। मूल्यांकन की यह प्रक्रिया कुछ नए संकल्पों के साथ समाप्त होती है। भारतीय मनीषा यह मानती है कि संकल्प ही सृष्टि का कारण है। जैसे संकल्प…

Readers’ Response

Himachal Lacks Entertainment This is regarding Himachal This Week's cover story of December 20, "Himachal Lacks entertainment." There are negligible entertainment sources in different towns across the state. Earlier, few towns had cinema…

महिमा माघ मास की

महिमा माघ मास की माघ मास इतना पवित्र  है कि इसमें प्रत्येक जलकुंड का जल गंगाजल के समान पवित्र हो जाता है। इस मास की प्रत्येक तिथि को पर्व माना जाता है। पूरे मास माघ स्नान न कर पाने की स्थिति में शास्त्रों ने यह भी व्यवस्था दी है कि मास में…

24 Months-24 Lies, Accuses BJP

The state BJP president Satpal satti released an eight page booklet against the state government in Una, and termed the two year rule of the Congress party as a black chapter with regard to developmental activities in Himachal. The booklet…

श्री स्वस्थानी माता मंदिर

हिंदू धर्म में अनेक व्रतों के बारे में विस्तार से बताया गया है और धर्म कर्म के कार्यों में रुचि रखने वाले भक्त पूरी श्रद्धा के साथ इनका पालन करते हैं। ऐसी ही विश्वास और आस्था की मूर्ति है माता श्री स्वस्थानी। माता सती के शरीर त्यागने के बाद…

नयना देवी

यह लिखना असंगत न होगा कि महिषासुर की महिषपुरी इस शृंग से दो योजन दक्षिण की ओर है, जिसका नाम अपभ्रंश होकर माखोवाल पड़ा जो आगे चलकर नवम् बादशाह गुरु तेगबहादुर जी महाराज ने जब यह भूमि बिलासपुर के नरेश से प्राप्त की तो यहां अपना दुर्ग बनाकर…

महाबलीपुरम मंदिर

भगवान विष्णु ने एक ब्राह्मण के रूप में उनसे मात्र तीन कदम भूमि दान में मांगी, परंतु जब ब्राह्मण रूपी उस वामन अवतार द्वारा मात्र अढ़ाई कदमों में सारी धरती को माप लिया गया, तो महादानी राजा बलि ने उनके पांव रखने के लिए अपना सिर ही आगे कर…