बंदरों से तंग श्रीलंका हिमाचली शरण में

शिमला — बंदरों के उत्पात से पीडि़त श्रीलंका समेत देश के सात राज्य व एक केंद्र शासित प्रदेश हिमाचल की शरण में हैं। इन राज्यों समेत श्रीलंका सरकार स्टरालाइजेशन की उस तकनीक को सीखना चाहती है, जिसके सहारे हिमाचल बंदरों की आबादी पर नियंत्रण पाने की दिशा में सफलतापूर्वक प्रयास कर रहा है। हरियाणा, कर्नाटक, उत्तराखंड, दिल्ली, सिक्किम, आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश और केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ ने वानर समस्या से निजात पाने के लिए प्रदेश सरकार को लिखा है कि वह अपने वैटरिनरी डाक्टरों को हिमाचल में ट्रेनिंग दिलवाना चाहते हैं, ताकि इस समस्या से निजात पाई जा सके। सूत्रों के मुताबिक हरियाणा व उत्तराखंड के साथ-साथ चंडीगढ़ से यह मांग भी आई है कि बंदरों की स्टरालाइजेशन वे हिमाचल के स्टरालाइजेशन केंद्रों में करवाने के इच्छुक हैं। इसके लिए वे पैसा खर्च करने के लिए भी तैयार हैं। अब राज्य सरकार इसके लिए मापदंड निर्धारित कर रही है। इसी के बाद बड़े स्तर पर आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। हिमाचल में अब तक 94 हजार के लगभग बंदरों की स्टरालाइजेशन हो चुकी है। वैटरिनरी डाक्टरों के मुताबिक यह स्टरालाइजेशन 100 फीसदी सफल रहती है। वैटरिनरी डाक्टरों के मुताबिक एक बंदर की स्टरालाइजेशन पर 2000 से 2500 रुपए के करीब खर्च आता है। हिमाचल में यह दर करीबन 1200 रुपए के करीब रहती है, जिसमें तीन दिन तक वानर को डाक्टर देखरेख में रखते हैं। वैसे आपरेशन के तीन घंटे बाद आपरेटिड वानर की दिक्कतें दूर हो जाती हैं। उल्लेखनीय रहेगा कि हांगकांग में हिमाचल के वैटरिनरी डाक्टर संदीप रतन ने कुछ समय पहले मंकी स्टरालाइजेशन पर रिसर्च पेपर प्रस्तुत किया था। उसके बाद हांगकांग ने टू होल तकनीक पर आधारित स्टरालाइजेशन सफलतापूर्वक शुरू की है। वानरों का एक गु्रप 35 से 40 का होता है। इसमें 60 प्रतिशत मादा व 40 फीसदी नर वानर होते हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में इनका दायरा 10 वर्ग मीटर के करीब होता है, जबकि शहरों में 10 वर्ग मीटर में कई गु्रप भी हो सकते हैं।

उत्पातियों को पकड़ना मुश्किल

मंकी एक्सपर्ट्स के अनुसार बंदरों ने ऐसी आवाजें विकसित कर ली हैं, जिससे उन्हें पकड़ना मुश्किल होता जा रहा है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक बंदरों को जब पता चलता है कि कोई उन्हें पकड़ने की तैयारी में है या पिंजरे लगा रहा है तो वे ऐसी आवाजें निकालते है, जिससे बंदरों का कोई भी गु्रप वहां नहीं फटकता है।

You might also like