दम घुटने से दो बच्चियों की मौत

रामपुर बुशहर— रामपुर की फांचा पंचायत के कांदरी गांव में गुरुवार को संदूक में बंद होने से दो बहनों की दम घुटने से मौत हो गई। दोनों खेलते-खेलते एक संदूक में जा घुसीं, जिसके बाद बाहर से संदूक का कुंडा बंद हो गया और दोनों ने संदूक में ही दम तोड़ दिया। बच्च्यों की पहचान मोनिका (आठ वर्षीय) और सोनिका (पांच वर्षीय) पुत्री कुंदनलाल, निवासी नेपाल के तौर पर हुई है। शाम को जब परिजन काम से लौटे, तब उन्हें इस दर्दनाक  घटना का पता चला, लेकिन तब तक दोनों की सांसें थम चुकी थीं। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची। शवों का पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया गया है। जानकारी के मुताबिक मोनिका और सोनिका दोनों बहनें कांदरी स्कूल में पढ़ती थीं। हर रोज की तरह इन बच्चियों के मां-बाप सुबह ही काम पर चले जाते थे, जिसके बाद वे दोनों स्कूल जाती और वहां से घर लौटकर आपस में खेलतीं। गुरुवार को भी दोनों खेलते-खेलते संदूक में  घुस गईं और इसी बीच बाहर से कुंडा लग गया, जिसके बाद लाख खोलने के बाद भी वे बाहर नहीं निकल पाईं। इसी बीच उनकी आवाज सुनने वाला भी वहां पर कोई नहीं था। दोनों की संदूक के भीतर ही मौत हो गई। शाम को जब कुंदनलाल व उसकी पत्नी काम से लौटे तो दोनों बेटियां कमरे में नहीं थीं। उन्होंने आसपास रहने वाले पड़ोसियों से पूछताछ की, लेकिन दोनों का कहीं कोई पता नहीं चला। हर तरफ तलाशने के बाद परिजन थक हाकर अपने क्वार्टर लौट आए। इस बीच परिजनों को संदूक के नजदीक खाने की प्लेट दिखाई दी। इस पर परिजनों ने संदूक खोला तो बेटियों को मृत अवस्था में देखकर उनके पांव तले जमीन खिसक गई। परिजनों की चीख पुकार सुनकर पड़ोसी भी मौके पर पहुंच गए, लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। दोनों बच्चियों को जिस कुंदनलाल ने सुबह हंसता-खेलता छोड़ा था, वे उसके सामने मृत पड़ीं थी। डीएपी सोमदत्त ने इस घटना की पुष्टि करते हुए कहा है कि कांदरी गांव में दो बच्चियों की दम घुटने से मौत हो गई। पुलिस ने मौके पर जाकर तथ्यों को जुटाया है।

You might also like