दीपकमल खूनी संघर्ष में चालान की तैयारी

newsशिमला  —  भाजपा मुख्यालय दीपकमल के बाहर युकां-भाजयुमो खूनी संघर्ष मामले में एफआईआर में नामजद दो दर्जन कार्यकर्ताओं के बयान दर्ज कर लिए गए हैं। पुलिस को अब इस मामले में आधा दर्जन कार्यकर्ताओं के बयान दर्ज करने रह गए हैं। पुलिस के आईटी सैल के चेयरमैन धर्मपाल ठाकुर, युकां कार्यकर्ता राहुल मेहरा, भूपेंद्र, भाजयुमो प्रवक्ता करण नंदा, एपीएमसी उपाध्यक्ष महेदसतान, भाजयुमो अध्यक्ष सुनील ठाकुर सहित दोनों ही संगठनों के एफआईआर के नामजद कार्यकर्ताओं के बयान दर्ज कर लिए है। पुलिस अब युकां व भाजयुमो पथराव मामले में चालान तैयार कर रही है। जून माह के पहले सप्ताह तक चालान अदालत में पेश कर दिया जाएगा। इसी मामले में चश्मदीद गवाह शिमला के डीएसपी बलवीर जसवाल के भी बयान दर्ज हो चुके हैं। पुलिस वीडियो फुटेज से पथराव करने वाले दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं की पहचान कर रही है। पुलिस का दावा है कि इस मामले में खासकर पुलिस के निशाने पर वही कार्यकर्ता हैं जिनको घटना के वक्त चोटें लगी हैं या जिनकी अस्पताल में एमएलसी भी कटी होगी। पुलिस सूत्रों का कहना है कि इस मामले में कार्रवाई जल्द पूरी कर चालान भी तैयार किया जाएगा। यहां बतातें चले कि बीते 29 जनवरी को भाजपा मुख्यालय दीपकमल के बाहर युकां व भाजयुमो के बीच खूनी संघर्ष हुआ था। खूनी संघर्ष में तीन दर्जन से अधिक दोनों ही संगठनों के कार्यकर्ताओं को चोटें आई थीं। इस घटना में पुलिस के तीन जवानों को भी चोटें आई थीं। भाजयुमो ने 24 तो युकां ने एक दर्जन कार्यकर्ताओं को चोटें आने का दावा किया था। खूनी संघर्ष में भाजपा के जिला उपाध्यक्ष राजेश शारदा, अध्यक्ष सुनील ठाकुर व भाजयुमो  प्रवक्ता करण नंदा को भी गंभीर चोटें आई थीं। जिला उपाध्यक्ष राजेश शारदा की आंख का पीजीआई में आपरेशन करना पड़ा। युकां   के यदुपति ठाकुर, महेंद्र सतान, संजीद, धर्मपाल ठाकुर, जसवीर को भी चोटें आई थीं।  उधर, एसपी शिमला डीडब्ल्यू नेगी का कहना है कि युकां भाजयुमो पथराव घटना की जांच अंतिम चरण में है।

You might also like