पर्यावरण दिवस का आगाज हिमाचल से

NEWSNEWSशिमला— स्वच्छता अभियान को लेकर राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में आई मोदी सरकार एक वर्ष पूरा होने पर इस बार पर्यावरण दिवस को विशेष आयोजन के तौर पर मनाने की तैयारी में है। पांच जून को पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। मोदी सरकार इसका पहला बड़ा आयोजन शिमला या धर्मशाला से शुरू करेगी।  सूत्रों के मुताबिक दिल्ली में बुधवार को एक उच्च स्तरीय बैठक के दौरान यह निर्णय लिया गया है। संभवतः केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा, केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के साथ हिमाचल आ सकते हैं। इस दिन स्वच्छता अभियान के साथ-साथ वन व पर्यावरण के क्षेत्र में किए गए कार्यों का जहां उल्लेख होगा, वहीं एक वर्ष के दौरान मोदी सरकार ने विकासात्मक योजनाओं के क्षेत्र में जो महत्त्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल की हैं, उन्हें भी जन-जन तक पहुंचाने का कार्य किया जाएगा।  वन व पर्यावरण के क्षेत्र में नीति आयोग द्वारा उठाए जाने वाले कदमों के साथ-साथ 14वें वित्तायोग के तहत राज्यों को जो राहत दी है, उसका भी केंद्र सरकार ऐसे अभियान के जरिए प्रचार करेगी। संभवतः दोनों ही मंत्री इसी रोज शिमला या धर्मशाला में मीडिया को भी संबोधित करेंगे और इसी संदर्भ में सरकार की भावी योजनाओं का भी खुलासा करेंगे।  यहां उल्लेखनीय रहेगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वन एवं पर्यावरण मंत्रालय से जुड़े मामलों को निश्चित अवधि में सुलझाने के निर्देश दे रखे हैं। विभिन्न राज्यों को इस बारे में राहत भी मिली है। यानी जो मामले साल व डेढ़ साल में निपटते थे, उन्हें अब पांच व छह महीने में सुलझाया जा रहा है। यही नहीं हरित पट्टी के संरक्षण व पर्यावरण संरक्षण की एवज में भी राज्यों को राहत देने के ऐलान हुए हैं। लिहाजा अब केंद्र सरकार ने पांच जून को पर्यावरण दिवस के मौके पर ऐसी कई उपलब्धियों का बखान लोगों के समक्ष लाने की तैयारी की है।  हिमाचल चूंकि इस मुहिम की शुरुआत करेगा, लिहाजा नजर इस बात पर भी रहेगी कि केंद्रीय मंत्री इस अवसर पर हिमालयी राज्यों के लिए और कौन से बड़े ऐलान करते हैं। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह पहले ही यह मांग कर चुके हैं कि वन मंत्रालय हिमालयी राज्यों के लिए मैदानी इलाकों से अलग ऐसे मापदंड निर्धारित करें, जिनसे ऐसे प्रदेशों को राहत मिले।

You might also like