बदनाम धर्मशाला बरी

NEWSधर्मशाला, शिमला — धर्मशाला कालेज में कथित सामूहिक दुराचार मामले पर पुलिस ने पर्दा उठा दिया है। एफआईआर दर्ज होने के 24 घंटे के भीतर पुलिस ने कथित पीडि़ता व शिकायतकर्ता को ढूंढ कर मामले को काल्पनिक बता दिया। पुलिस का दावा है कि कालेज छात्रा से कथित सामूहिक दुराचार जैसी कोई घटना नहीं हुई है। धर्मशाला में पुलिस अधीक्षक कांगड़ा कपिल शर्मा और शिमला में पुलिस महानिदेशक संजय कुमार ने अलग-अलग प्रेस कान्फ्रेंस में बताया कि शिकायतकर्ता लड़की व कथित पीडि़ता की पहचान कर ली गई है। युवती ने पुलिस को दिए बयान में साफ कर दिया है कि उसके साथ न तो कोई दुराचार हुआ है और न ही ऐसी कोई घटना। पुलिस इस मामले में कथित शिकायतकर्ता और कथित पीडि़त दोनों ही लड़कियों के सीआरपीसी 164 के तहत देर सायं जेएमआईसी-एक के सामने बयान दर्ज करवाए। दोनों पुलिस अधिकारियों ने कहा कि 16 मई की इस घटना को लेकर पुलिस लगातार जांच कर रही थी और गुरुवार को धर्मशाला पुलिस ग्राउंड के पास पुलिस के ही एक जवान ने कथित शिकायतकर्ता लड़की को पहचाना, जिसकी सूचना उसने तुरंत ही पुलिस थाने को दी। इस पर पुलिस तुरंत हरकत में आई और लड़की को बयान लेने के लिए हिरासत में ले लिया। इसी लड़की के बयान के आधार पर कथित पीडि़त लड़की तक पुलिस पहुंच पाई। उन्होंने यह भी कहा कि कथित पीडि़त और कथित शिकायतकर्ता लड़कियों के बयानों में विरोधाभास है। पुलिस महानिदेशक ने कहा कि शिकायतकर्ता लड़की कालेज की छात्रा नहीं है, जबकि जिस लड़की के कथित पीडि़त होने का दावा किया गया था, वह कालेज की छात्रा है। उन्होंने कहा कि ये दोनों लड़कियां एक ही जिला से संबंधित हैं और पड़ोस में रहती हैं। कथित पीडि़ता पढ़ाई में अव्वल छात्रा है और उसका एक भाई व बहन है। उक्त छात्रा बहुत शालीन है। वहीं, शिकायतकर्ता लड़की का एक भाई है। इस मामले में सोशल मीडिया पर जिन लोगों के नाम कथित दुराचार घटना में उछाले गए हैं, पुलिस उनसे भी पूछताछ करेगी। उन्होंने कहा कि यदि कानूनी रूप से संभव हुआ तो इस मामले में सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार करने वालों के खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई हो सकती है। पुलिस महानिदेशक ने पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि कथित पीडि़त लड़की का अभी तक मेडिकल नहीं करवाया गया है और मेडिकल तभी करवाया जाएगा, यदि कथित पीडि़त लड़की अथवा उसका परिवार इसकी इजाजत देता है। उन्होंने कहा कि पुलिस शिकायतकर्ता लड़की के बारे में विस्तृत जानकारी जुटाने में लगी है, ताकि इस घटना के पीछे का सच सामने आ सके। उन्होंने यह भी कहा कि शिकायतकर्ता लड़की ने अभी तक पुलिस को दिए बयान में कहा है कि उसने इस कथित दुराचार के मामले की शिकायत किसी के कहने पर की थी। उन्होंने यह भी कहा कि कथित शिकायतकर्ता लड़की कई बार घर से भाग चुकी है और उसे एक बार दूसरे राज्य की पुलिस धर्मशाला छोड़ने आई थी। डीजीपी ने कहा कि शिकायतकर्ता लड़की के बारे में छानबीन की जा रही है। कथित पीडि़ता ने यह भी माना है कि वह चार साल में शिकायतकर्ता लड़की से नहीं मिली है। पुलिस ने इस मामले में तह तक जाने के लिए शिकायतकर्ता तक पहुंचने के लिए उसके स्कैच भी तैयार किए थे, जिसके आधार पर पुलिस को शिकायतकर्ता की सूचना मिली।

You might also like