लाई डिटेक्टर लाए, पर चलाना किसी को न आए

शिमला— हिमाचल पुलिस ने बेकार में लाई डिटेक्टर मशीन खरीदने के लिए लाखों खर्च डाले। पुलिस ने सच का पता लगाने वाली लाई डिटेक्टर मशीन तो खरीद ली, लेकिन इस मशीन का इस्तेमाल करने का किसी को भी प्रशिक्षण नहीं दे पाया। विभाग की इस लापरवाही के चलते लाखों रुपए खर्च कर ली गई लाई डिटेक्टर टेस्ट मशीन सीआईडी के स्टोर रूम में धूल फांक रही है। लाई डिटेक्टर मशीन को खरीदे हुए एक साल से ऊपर का समय हो चुका है। विभाग इस महंगे उपकरण का एक बार भी इस्तेमाल नहीं कर सका है, और होगा भी कैसे। विभाग में ऐसा कोई नहीं है जो इस मशीन के जरिए टेस्ट ले सके। लाई डिटेक्टर टेस्ट लेना तो दूर, इस मशीन की तकनीक के बारे में भी किसी को इलम तक नहीं और न ही विभाग की तरफ से यह जहमत उठाई जा रही है कि किसी को मशीन के इस्तेमाल करने को लेकर प्रशिक्षण दिया जाए। सूत्रों का कहना है कि झूठ पकड़ने करने वाली मशीन को सिर्फ एक बार तब खोला और देखा गया था जब मशीन को खरीद कर लाया गया था। उसके बाद से यह मशीन सीआईडी के स्टोर रूम में भी बंद है। मशीन में जंग लग चुकी है, जबकि विभाग को इस मशीन की खासा जरूरत है। किसी भी मामले में पुलिस को आरोपियों तक पहुंचने के लिए इस मशीन की जरूरत पड़ सकती है। ऐसे एक दर्जन से ऊपर मामले हैं, जिनमें शक के आधार पर सच्चाई का पता लगाने के लिए लाई डिटेक्टर टेस्ट करना जरूरी है। इसके बावजूद विभाग ऐसा नहीं कर पा रहा है क्योंकि अपनी लाई डिटेक्टर मशीन का इस्तेमाल करना कोई नहीं जानता। बाहरी राज्य में लाई डिटेक्टर टेस्ट करवाने के लिए भारी भरकम पैसा देना पड़ता है और यही नहीं बाहरी राज्यों से लाई डिटेक्टर टेस्ट के लिए दो-तीन माह से पहले समय दिया जाता है। लाई डिटेक्टर टेस्ट करवा भी दिया जाए तो महीनों उसकी रिपोर्ट आने में लग जाते हैं। अहमदाबाद लैब से पहले लाई डिटेक्टर टेस्ट के लिए पुलिस को आवेदन करना पड़ता है। उसके बाद लैब से लाई डिटेक्टर टेस्ट का समय दिया जाता है फिर टेस्ट की फीस जमा करनी पड़ती है। उसके बाद ही लाई डिटेक्टर टेस्ट हो पाता है। इस प्रोसेस में महीनों लग जाते हैं। पुलिस सूत्रों का कहना है कि बाहरी राज्य जाकर एक का भी अगर लाई डिटेक्टर टेस्ट करवाना हो तो एक लाख रुपए का खर्चा आ जाता है।

युग मामला, नौकरों का अहमदाबाद में हुआ टेस्ट

अभी एक माह पहले ही सीआईडी ने राम बाजार से लापता हुए चार वर्षीय युग अपरहण मामले में दो नौकरों का लाई डिटेक्टर टेस्ट अहमदाबाद में किया। लाई डिटेक्टर टेस्ट करने में पहले समय मांगना पड़ा। अब रिपोर्ट आने के लिए इंतजार करना पड़ रहा है।

You might also like