( नवीन जैन लेखक, स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं ) फिल्मी दुनिया को मालूम होना चाहिए कि भारतीय न्याय व्यवस्था ने पूर्व प्रधानमंत्रियों के साथ भी कोई नरमी नहीं बरती थी। पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव को दिल्ली की एक निचली अदालत ने एक मामले में तीन साल की सजा सुना दी थी। यह बात अलग है कि

( किशन चंद चौधरी लेखक, सामाजिक कार्यकर्ता हैं ) औद्योगिक घरानों, बड़ी-बड़ी कंपनियों, तथा समाज के संपन्न लोगों को भी ऐच्छिक रूप से सड़कों के निर्माण कार्य के लिए इच्छानुसार धनराशि दान करने के लिए आगे आना चाहिए। अगर सरकार कुछ प्रयास करे तो समाज के कई लोग व संस्थाएं इस तरह के समाज सेवा

प्राकृतिक आपदाओं में भूकंप, वैज्ञानिकों के लिए आरंभ से ही चुनौती बना रहा है। वैज्ञानिक भूकंप की आपदा का पूर्वानुमान लगाने में असमर्थ रहे हैं। कोई भी ऐसा यंत्र अभी तक ईजाद नहीं किया गया है, जो भूकंप आने से पहले इस की चेतावनी दे सके… आपदाओं का मनुष्य के साथ शुरू से ही चोली-दामन

पालमपुर —  नेताजी सुभाष कालेज ऑफ नर्सिंग में राज्य स्तरीय कान्फ्रेंस के तीसरे व अंतिम चरण में मंगलवार को विभिन्न खेलकूद प्रतियोगिताओं के फाइनल मैच करवाए गए। वालीबाल का फाइनल मैच नेताजी सुभाष नर्सिंग कालेज पालमपुर और माता पदमावति नाहन के बीच हुआ, जिसमें नेताजी सुभाष कालेज ऑफ नर्सिंग की छात्राओं ने बाजी मारी एवं

( सुरेश कुमार, योल ) सोमवार को एक टीवी चैनल पर दिल्ली में ट्रैफिक पुलिस कर्मी द्वारा एक महिला को ईंट से मारने का वीडियो देखकर केजरीवाल सरकार के दावों-वादों का सच साफ पता चला कि केजरी राज में दिल्ली कितनी बदली है। क्या कोई पुलिस वाला इतना पत्थर दिल हो सकता है। अब दावे

चंबा —  पुलिस मैदान में चल रही पुलिस भर्ती प्रक्रिया में मंगलवार को खाकी पहनने का शौक दिल में पाले जिला के 692 युवाओं ने हिस्सा लिया। भर्ती प्रक्रिया के दौरान युवाओं ने मैदान में खूब दमखम दिखाया और मैदान की बाधाओं को पार किया। भर्ती देने आए युवाओं में काफी जोश देखा गया। भर्ती

( पंकज ठाकुर, घुमारवीं ) तकरीबन 13 साल पुराने मुंबई के बहुचर्चित हिट एंड रन मामले में सलमान खान को मुंबई की एक अदालत ने पांच वर्ष की सश्रम कारावास व 25 हजार रूपए जुर्माने की सजा सुनाई है। इस पर लोगों की तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। मुंबई के धनिकों में शुमार सलीम

चंबा  —  पुलिस भर्ती में इस बार बदले हुए नियम कई युवाओं को  रास नहीं आए। इस दफा सबसे बड़ी बाधा न तो 100 मीटर की रेस थी और न ही युवाओं को 800 मीटर की रेस दौड़नी पड़ी। साथ ही भर्ती में हाई जंप, लांग जंप और रेस की मेरिट का भी झंझट नहीं

( भारती शर्मा, लगड़ू, ज्वालामुखी ) बेशक हिमाचल प्रदेश के प्राकृतिक नजारे पर्यटन उद्योग की तस्वीर बदल सकते हैं, लेकिन इसके लिए पर्यटन विभाग और राज्य सरकार को एक निश्चित, व्यवहार्य व प्रभावी योजना के साथ पेश होना होगा। हिमाचली दामन को प्रकृति ने हर खूबसूरत नजराने से नवाजा है, लेकिन दुर्भाग्यवश हम अब तक

पुलिस की बर्बरता और इनसानियत पर कलंक…! इतना गुस्सा, इतनी उग्रता और ऐसा ‘पत्थर मार’ व्यवहार…! यह पुलिस किसकी और किसके सहयोग के लिए है? हालांकि आज देश में कई महत्त्वपूर्ण घटनाएं सामने आईं। विश्लेषण की दृष्टि से अन्नाद्रमुक की ‘अम्मा’ जयललिता का आय से अधिक संपत्ति के एक पुराने केस में बरी होना एक