हम नहीं सुधरेंगे

newsपूरे देश को रोशनी देने वाला बोर्ड। बड़े-बड़े अफसरों, मंत्रियों- संतरियों वाला बोर्ड। विजन की कमी से मगर अंधेरे में भटकता बिजली बोर्ड। आजादी के दशकों बाद भी खुद के लिए खंभे न खरीदे जा सकें तो आम आदमी यही कहेगा, अंधेरे वाला बोर्ड-कंगाल विभाग। हरे पेड़ों से भी भला कभी बिजली की तारें गुजारी जा सकती हैं। इसी से पता चलता है सोच की कंगाली कभी खत्म नहीं होगी। प्रस्तुत चित्र नेरवा से हमारे प्रतिनिधि सुरेश सूद ने भेजा , जहां बिजली बोर्ड  ने पेड़ों से तारें गुजार दी हैं

हमें भेजें फोटो-वीडियो

आपके पास है अगर कोई ऐसा फोटो या वीडियो, जो बयां करता हो अव्यवस्था। बताता हो ‘हम नहीं सुधरेंगे’ या हो कोई घटनाक्रम तो तुरंत करें ‘व्हाटस ऐप’  94182-55757, 94184 07889  या 98171-92111 पर। प्रकाशित होने पर सबसे बेहतर फोटो या वीडियो को महीने के अंत में मिलेगा बंपर इनाम और साथ में ‘दिव्य हिमाचल’ इवेंट देखने का अवसर भी।

You might also like