Daily Archives

Nov 3rd, 2015

हुनर देख हैरान हुआ हमीरपुर

हमीरपुर — ‘दिव्य हिमाचल मीडिया ग्रुप’ के मंच पर ‘हिमाचल की आवाज सीजन-चार’ ऑडिशन में किस्मत आजमाने पहुंचे प्रतिभागियों के लिए हमीरपुर का अंतरिक्ष मॉल छोटा पड़ गया। मंगलवार को हमीरपुर शहर में आयोजित ऑडिशन

मिट्टी का तेल छिड़का और लगा ली आग

गरली, ज्वालामुखी— गरली के निकटवर्ती गांव सकराला में रविवार देर सायं सुसराल की मानसिक प्रताड़ना से तंग आकर 24 वर्षीय विवाहिता अनुरानी पत्नी संजय कुमार ने बंद कमरे में अपने शरीर पर मिट्टी का तेल छिड़क कर आग लगा ली। अचानक आग की लपटों  में गिरी…

तिब्बती आज करेंगे शांतिपूर्वक प्रदर्शन

धर्मशाला— पर्यटन नगरी मकलोडगंज में तिब्बती युवक की हत्या के विरोध में समुदाय के लोग मंगलवार से शांतिपूर्वक विरोध-प्रदर्शन शुरू करेंगे। युवक की मौत मामले में उचित कार्रवाई की मांग को लेकर समुदाय के लोग सोमवार को पुलिस अधीक्षक कार्यालय में…

सरकारी कर्मियों की लूट है मुख्य समस्या

( डा. भरत झुनझुनवाला लेखक, आर्थिक विश्लेषक एवं टिप्पणीकार हैं ) सातवें वेतन आयोग को स्पष्ट आदेश देना चाहिए कि सरकारी कर्मियों के वेतन आम आदमी की आय के अनुपात में किए जाएं। आरक्षण का मुद्दा लूट के बंटवारे का है, न कि जातीय न्याय का। लूट…

माहौल किसने बिगाड़ा ?

असहिष्णुता, अशांति, आशंकाएं और डर किसी एक घटना, एक हादसे, एक जाति-समुदाय और एक जमात तक सीमित नहीं है। हम सह अस्तित्व की संस्कृति के लोग हैं। हम आपस में बेहद उदार भी हैं। किसी दुर्घटना के कारण हमारा नामकरण या चरित्र नहीं बदला जा सकता। हमने…

फोरेंसिक लैब से रू-ब-रू

धर्मशाला— क्षेत्रीय फोरेंसिक लैब धर्मशाला की प्रदर्शनी में हिमाचल प्रदेश राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने सराहना की। उन्होंने फोरेंसिक लैब द्वारा आपराधिक मामलों को सुलझाने के साथ-साथ जनता को जागरूक करने के कार्यों की भी प्रशंसा की। धर्मशाला में…

रोपड़ में प्रदेश के कैडेट्स ने चमकाया नाम

पालमपुर— बतरा कालेज के एनसीसी अधिकारी लेफ्टिनेंट डा. दीप कुमार के नेतृत्व में प्रदेश के कैडेट्स ने रोपड़ में आयोजित प्रतियोगिता में शानदार प्रदर्शन किया है।  लेफ्टिनेंट डा. दीप कुमार के कुशल नेतृत्व में हिमाचल प्रदेश के सैन्य दल ने बैले,…

वर्ल्ड पैराग्लाइडिंग का डेस्टीनेशन

अगर एक अकेली पैराग्लाइडिंग प्रतियोगिता हिमाचल को विश्व में चमका सकती है, तो ऐसी संभावनाओं के अक्स को निखारना होगा। यह महज प्रतियोगिता नहीं, बल्कि पर्यटन डेस्टीनेशन की ताजपोशी भी थी। खासकर जब बीड़-बिलिंग की रूपरेखा में विकास के मायने पर्यटन…

समय के घनचक्कर में गुम होता घराट

( मोती राम चौहान लेखक, करसोग, मंडी से हैं ) ज्यों-ज्यों समय परिवर्तित होता गया, त्यों ही मनुष्य भी आधुनिकता की चकाचौंध में अपनी पौराणिक शैली को भूलते हुए मशीनी युग में रमने लगा। अब तो घराटों के नामोनिशान तक समाप्त हो चुके हैं। इस परंपरा…

समाधान रहित विरोध

( नरेश गुलेरिया, सरकाघाट, मंडी ) पिछले कुछ समय से देश के कुछ साहित्यकार, वैज्ञानिक व फिल्म निर्माता विरोध स्वरूप अपने-अपने पुरस्कार वापस लौटा रहे हैं। कारण के रूप में सत्ता परिवर्तन के बाद से देश में बढ़ती असहिष्णुता और अभिव्यक्ति को…