आतंकवाद के खिलाफ सुन्हीं बंद

PicsArt_1489744456233राजीव सूद, नगरोटा बगवां -छत्तीसगढ़ में नक्सली हमले में शहीद हुए कंडा गांव के सुरेश कुमार और अन्य उग्रवादी हमलों में मारे जा रहे  वीर जवानों की शहादत से चंगर क्षेत्र के लोग में रोष है। शहीद की गृह पंचायत सुन्हीं और साथ लगती अन्य पंचायतों के लोगों ने शुक्रवार को केंद्र सरकार को एक ज्ञापन सौंपकर नक्सलियों और उग्रवादियों के पूर्ण सफाए की मांग की। सुन्हीं की प्रधान आशा कुमारी और उपप्रधान रमेश काथा की अगवाई में सुन्हीं और आसपास की पंचायतों के जनप्रतिनिधियों और बड़ी संख्या में  ग्रामीणों ने क्षेत्र में रोष रैली निकालकर बड़ोह के तहसीलदार के माध्यम से प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेजा तथा नक्सलियों के पूर्ण सफाए की मांग की। इससे पहले शहीद के घर से थाना रोड तक रोष रैली निकाली गई, जिसमें सैकड़ों लोगों ने शिरकत की। इस दौरान आतंकवाद के विरुद्ध जमकर नारेबाजी हुई तथा आतंकवाद का पुतला फूंका गया। सुन्हीं के दुकानदारों ने भी रोषस्वरूप दुकानें बंद रखीं। ज्ञापन में लोगों ने प्रधानमंत्री से सवाल किया है कि आखिर कब तक लोग अपने लाड़लों को तिरंगे में लिपटा आते देखते रहेंगे। सरकार आंतरिक व बाह्य आतंकवाद से सख्ती से निपटे, ताकि खून की होली का यह सिलसिला समाप्त हो। इस दौरान शहीद परिवार के संबंधी भी शामिल रहे। नगरोटा बगवां विस क्षेत्र अपने देश की खातिर अपने प्राणों की आहुति देने वाले जांबांजों की शहादत का दंश अकसर झेलता रहा है। राष्ट्र के लिए जीवन का सर्वोच्च बलिदान देने वाले देशभक्तों की यहां लंबी फेहरिस्त है। इस बार नक्सलियों ने कई अन्य जवानों के साथ नगरोटा विस क्षेत्र की सुन्हीं पंचायत के 32 वर्षीय जवान को निशाना बनाया, जो केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल में सेवाएं दे रहा था। इस अवसर पर जिला परिषद सदस्य शशि चौधरी, ग्राम पंचायत लुहना के प्रधान संजय, उपप्रधान अमित,  पंचायत बलोल की प्रधान डिंपल व उपप्रधान राम भूषण, चंद्रोट पंचायत से विनय, पूर्व प्रधान पवना व सुरजीत तथा महिला मंडल प्रधान नीलम व रमा आदि के अतिरिक्त बड़ी संख्या में आम लोग व जनप्रतिनिधि शामिल हुए।

You might also like