जीएसटी से पहले 761 दवाओं के दाम तय

राष्ट्रीय दवा मूल्य निर्धारण प्राधिकरण ने जारी की अधिसूचना, नए नियम लागू होने से पहले कार्रवाई

newsबीबीएन— राष्ट्रीय दवा मूल्य निर्धारण प्राधिकरण (एनपीपीए) ने जीएसटी व्यवस्था के लागू होने से पहले 761 दवाओं का अस्थायी अधिकतम मूल्य तय कर दिया है। जिन दवाओं के दाम तय किए गए हैं, उनमें कैंसर रोधी, एचआईवी एड्स, मधुमेह सहित एंटीबायोटिक दवाएं शामिल हैं। एनपीपीए ने कहा है कि दवाओं की कीमत अंतिम तौर पर नई अप्रत्यक्ष कर प्रणाली लागू होने के बाद ही तय की जाएगी, लेकिन फिलवक्त कीमतों में जो बदलाब किया गया है, उसमें जीएसटी के बाद भी राज्य बार दवा की कीमतों में दो से तीन प्रतिशत का ही फर्क पड़ेगा। बताते चलें कि दवा निर्माण उद्योग ने जीएसटी के तहत दवाओं पर 12 फीसदी कर लगने के बाद इनकी कीमतें बढ़ने का अंदेशा जाहिर किया था, जिसे मद्देनजर रखते हुए एनपीपीए ने हरकत में आते हुए डीपीसीओ 2013 की प्रथम अनुसूची में शामिल 761 दवाओं की अधिकतम मूल्य सीमा में बदलाव करते हुए इसकी अधिसूचना जारी कर दी है। संशोधित मूल्य सूची के मुताबिक ज्यादातर दवाओं के दाम कम कर दिए गए हैं और कुछ दवाओं के दाम ही पहले जितने रहे हैं। जिन दवाओं की कीमतों को तय किया गया है, वे सब जीएसटी के तहत 12 फ ीसदी कर के दायरे में आने वाली हैं। एनपीपीए का कहना है कि कंपनियों के लिए जीएसटी में स्थानांतरण को आसान बनाने के लिए 761 दवाओं की अस्थायी तौर पर अधिकतम मूल्य घोषित किए गए हैं। इसके बाद जीएसटी लागू होने पर इन दवाओं के वास्तविक मूल्य में दो से तीन फीसदी तक ही उतार-चढ़ाव नजर आएगा। बहरहाल, जीएसटी प्रणाली में भी स्टेंट की कीमतें बढ़ाई नहीं गई हैं। स्टेंट की ही तरह शरीर की प्रतिरोधी क्षमता को कम करने वाली इयूनोसप्रेसेंट दवाओं जैसे साइक्लोस्पोरिन के दाम भी नहीं बदले गए हैं। ल्यूकीमिया की दवा और लाल रक्त कणिकाओं के उत्पादन पर नियंत्रण रखने वाली दवा और हेपेटाइटिस बी के टीके की कीमतें पहले जैसी ही हैं। कंपनियां मूल्य सूची में बदलाव के लिए 29 जून तक आपत्ति दर्ज करवा सकते हैं।

ये जरूरी दवाएं हो जाएंगी सस्ती

एनपीपीए की अधिसूचना के बाद एचआईवी की दवा, रैबीज निवारक, दिल की धड़कन नियमित करने वाली दवाएं, निमोनिया, कैंसर, फोलिक एसिड की गोलियां, त्वचा रोग और क्रॉन डिजीज जैसी बीमारियों के उपचार में इस्तेमाल होने वाली दवांए सस्ती हो जाएंगी। इसके अलावा पैरासिटामोल जैसी रोजमर्रा की दवाओं के दाम भी घट गए हैं।

भारत मैट्रीमोनी पर अपना सही संगी चुनें – निःशुल्क रजिस्टर करें !

You might also like