कोटखाई गैंगरेप एंड मर्डर मिस्ट्री , सीबीआई दिल्ली में करवा रही आठ के डीएनए टेस्ट

LOGO2शिमला — कोटखाई गैंगरेप व मर्डर मिस्ट्री की असलियत जानने के लिए सीबीआई ने आठ आरोपियों के डीएनए टेस्ट दिल्ली लैब में करवा रही है। छात्रा की बिसरा व अन्य रिपोट्र्स भी फिर से वहीं परखी जा रही हैं। सूत्रों के मुताबिक असली मुजरिमों को पकडऩे के लिए सीबीआई इन रिपोट्र्स के बाद उनका नार्को टेस्ट भी करवा सकती है। हालांकि अब ब्रेन मैपिंग, पॉलीग्राफ के अलावा लेयर्ड वॉइस एनालिसिस और सस्पेक्ट डिटेक्टिड सिस्टम भी मौजूद हैं, जो अत्याधिक आधुनिक हैं। ये दो टेस्ट्स करवाने के लिए अदालत की परमिशन की भी जरूरत नहीं रहती है। सूत्रों की मानें तो सीबीआई दिल्ली स्थित लैब के नतीजे आने के बाद ऐसे टेस्ट भी करवा सकती है, ताकि यह 100 फीसदी तय हो जाए कि कोटखाई गैंगरेप व मर्डर मिस्ट्री के असल गुनाहगार आखिर हैं कौन, क्योंकि जो नेपाली व गढ़वाली पकड़े गए हैं, उन्हें लेकर अभी भी बड़ी जांच के बावजूद किंतु-परंतु ही हो रहे हैं। हालांकि दावा पुलिस का भी यही था कि असल गुनाहगार यही है, मगर अब जिस तरह सीबीआई ने प्रयोगशाला में आठ लोगों के डीएनए जांचने के लिए भेजे हैं, उससे उन अंदेशों को बल मिला है, जिनके तहत कहा जा रहा था कि इस बड़ी घटना में कई और संदिग्ध चेहरे भी शामिल हैं। उधर, सोमवार को सीबीआई ने इस पूरे मामले की विभिन्न कडिय़ां जोडऩे के लिए कुछ और लोगों से भी पूछताछ की है। अब तक जो सबूत जुटाए गए हैं, उन्हें सत्यापित करने के लिए तथ्य जुटाए गए हैं। हालांकि इंतजार सीबीआई को भी अब डीएनए रिपोर्ट का ही है, जो असल गुनाहगारों के राज खोलेगी। हालांकि जुन्गा स्थित एफएसएल की रिपोट्र्स भी तैयार बताई जा रही हैं, मगर सीबीआई जांच को लेकर किसी तरह का बवाल न उठे, लिहाजा माना जा रहा है कि जांच एजेंसी इन रिपोट्र्स को न केवल मैच करेगी, बल्कि ऐसा कोई शक नहीं छोडऩा चाहती, जिसे लेकर उसकी जांच पर सवाल उठे।
सहेलियों-परिजनों से मिले सुराग–
जानकारी मिली है कि सीबीआई को छात्रा की कुछ सहेलियों व परिजनों ने अहम सुराग दिए हैं। पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ के दौरान भी कुछ ऐसी महत्त्वपूर्ण सूचनाएं मिली हैं, जिनकी बिनाह पर दावा यही किया जा रहा है कि इसी हफ्ते तक इस मिस्ट्री को भेद दिया जाएगा।

You might also like