दरिंदगी और हत्या वाली जगह की तलाश

By: Jul 24th, 2017 12:01 am

जांच की सुई अब घटनास्थल पर टिकी, पुलिस जांच में बताए गए स्पॉट पर जनता को संदेह

शिमला —  कोटखाई में बिटिया के साथ दरिंदगी आखिर किस जगह हुई, पूरी जांच इसके इर्द-गिर्द घूम गई है। हालांकि पुलिस अपनी जांच में वारदात वाली जगह को वहीं पास बता रही है, जहां छात्रा का शव बरामद किया गया था, लेकिन इस पर संदेह जताया जा रहा है।  यही वजह है कि सीबीआई जांच का अहम बिंदु यही है कि छात्रा के साथ दरिंदगी और उसकी हत्या की असली जगह कौन सी है। सीबीआई अपनी जांच में पुलिस द्वारा बताई गई जगह को भी वेरिफाई कर रही है। इससे इस पूरे हत्याकांड से पर्दा उठने की संभावना है। पुलिस जांच में सामने आया था कि बिटिया की चार जुलाई को ही हत्या कर दी गई थी। यह भी पाया गया था जिस जगह शव बरामद किया गया था, उससे करीब 10 फुट की दूरी पर ही दुराचार कर बिटिया की हत्या की गई। इसके बाद आरोपियों ने छात्रा के शव को सड़क के साथ नीचे फेंक दिया था, लेकिन जहां शव बरामद किया गया है, वहां से अकसर लोग आते-जाते रहते हैं। यही नहीं, छात्रा के गुम होने वाली शाम को भी स्कूली बच्चे और अन्य लोग उस रास्ते से गुजरे होंगे। यदि यह घटना वहीं हुई तो यहां से गुजरने वालों क्या इसकी भनक नहीं लगी। यही नहीं, पास में ही करीब 200 मीटर दूर नेपालियों की बस्ती भी है, यदि यहां दुराचार व हत्या हुई होती तो मजदूरों को भी इसका पता चलता। यही वजह है कि पुलिस की यह थ्योरी लोगों के गले नहीं उतर रही। बिटिया का शव छह जुलाई को सुबह करीब सात बजे देखा गया था तो सवाल ये भी उठे हैं कि घने जंगल में जंगली जानवरों से कैसे यह शव करीब 36 घंटे तक सुरक्षित रह गया, जबकि यहां पर जंगली जानवर काफी तादाद में हैं।

जांच एजेंसी फोरेंसिक एविडेंस की भी लेगी मदद

सीबीआई ने घटनास्थल का निरीक्षण भी किया है। इसके अलावा आसपास के इलाके को भी जांचा है। स्थानीय लोगों द्वारा भी घटनास्थल को लेकर संदेह जताया जा रहा है। ऐसे में अब पूरी तहकीकात इस ओर घूम गई है कि छात्रा के साथ दरिंदगी और उसकी हत्या कहां की गई। इसके लिए जांच एजेंसी फोरेंसिक एविडेंस की भी मदद ले सकती है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !