मां रेणुकाजी से मिलने पहुंचे भगवान परशुराम

देव पालकियों के आगमन के साथ शुरू हुआ श्रीरेणुकाजी मेला, उपायुक्त ने किया शुभारंभ

श्रीरेणुकाजी— मां-पुत्र के पावन मिलन स्वरूप सदियों से आयोजित होने वाला धार्मिक एवं पारंपरिक अंतरराष्ट्रीय श्रीरेणुकाजी मेला भगवान परशुराम की देव पालकियों के आगमन के साथ सोमवार को आरंभ हो गया। वर्ष 2017 के श्रीरेणुकाजी मेले के शुभारंभ पर उपायुक्त सिरमौर बीसी बडालिया ने वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला ददाहू के मैदान से माथा टेककर देव पालकियों को शोभायात्रा के लिए रवाना किया। इसके साथ ही छह दिवसीय धार्मिक उत्सव आरंभ हो गया। गौर हो कि मां श्रीरेणुकाजी से वर्ष में एक दिन मिलने के वचन को निभाने के लिए भगवान परशुराम सोमवार को रेणुकाजी पहुंचे। इस दौरान शोभायात्रा में जामूकोटी से चांदी की सुसज्जित पालकी मां रेणुकाजी की परिक्रमा करते हुए गिरि तट पर पहुंची। यहां सिरमौर राज परिवार के मुखिया कंवर अजय बहादुर सिंह ने परंपरा के अनुसार पालकी का अभिनंदन किया। कटाहं शीतला, मंडलाह तथा माशु च्योग से लाई गई पालकियों ने शोभा यात्रा में भाग लिया। शोभायात्रा ददाहू बाजार से होती हुई गिरि पुल, देवशिला, बेढ़ोन तथा मेला स्थल होते हुए श्रीरेणुकाजी तीर्थ तक पहुंची। तीर्थ श्रीरेणुका के संगम स्थल पर भगवान परशुराम की देव पालकियों को रेणुका झील में स्नान तथा भगवान परशुराम का मां से मिलन करवाया गया। देव पालकियों के कारदार वीरेंद्र सिंह, अमर सिंह, मोहन, पुजारी ने यह प्रक्रिया पूरी करवाई।

भगवान परशुराम के दर्शनों को उमड़ी भीड़

इस वर्ष गिरि नदी तट पर श्रद्धालु भगवान परशुराम की देव पालकी के समक्ष माथा टेकने के लिए उत्सुक दिखे। उपायुक्त  बीसी बडालिया के साथ एसडीएम नाहन एवं रेणुका विकास बोर्ड की सदस्य सचिव कृतिका कुल्हारी, विधायक एवं सीपीएस विनय कुमार, डीपीआरओ बीआर चौहान, तहसीलदार डीएस कौशल सहित ददाहू स्कूल के प्रधानाचार्य सुनील शर्मा समेत सभी अध्यापकों ने भाग लिया।

You might also like