हिम सर्वोदय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला, घुमारवीं

राजेश गर्ग प्रिंसीपल

हिम सर्वोदय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला घुमारवीं अपने स्थापना वर्ष 1992 से लेकर अब तक क्षेत्र के अनगिणत छात्रों को बेहद किफायती दरों पर गुणात्मक शिक्षा प्रदान करने वाला निजी क्षेत्र का एक मात्र विद्यालय बन गया है। विद्यालय के संस्थापक स्व. हीरा लाल महाजन का एक मात्र सपना था कि निजी क्षेत्र में एक ऐसा विद्यालय हो, जहां पर गरीब से गरीब बच्चा भी बेहतर शिक्षा प्राप्त कर सके। विगत 24 वर्षों  में न जाने कितने रिकार्ड इस स्कूल ने बनाए हैं, जैसे हिमाचल प्रदेश शिक्षा बोर्ड की परीक्षाओं में प्रथम स्थान हासिल करना हो या एक साथ एक ही कक्षा की बोर्ड परीक्षा की मैरिट सूची के पांच-पांच स्थान प्राप्त करना हो। विद्यालय की एक परंपरा सी बन गई है कि हर वर्ष बोर्ड परीक्षा की मैरिट सूची में अपना नाम दर्ज करवाना ही करवाना है। इस वर्ष भी दसवीं कक्षा में विद्यालय की दो छात्राओं स्वेता व विपाशा शर्मा ने मैरिट सूची में छठा व दसवां स्थान हासिल किया है। शिक्षा के अतिरिक्त खेलों  में भी विद्यालय के छात्रों ने क्षितिज को छुआ है। स्कूल की छात्रा ईसुता ने राष्ट्रीय स्तर की बैडमिंटन प्रतियोगिता में प्रदेश का प्रतिनिधित्व करते हुए कांस्य पदक अपने नाम किया है। इसके अलावा बैडमिंटन में ही सुन्यन शर्मा  ने भी राष्ट्रीय स्तर के टूर्नामेंट में भाग लेकर स्कूल का नाम रोशन किया है। स्कूल की समयसारिणी को इस प्रकार व्यवस्थित किया जाता है कि विद्यार्थियों का थोड़ा भी समय नष्ट न हो, बल्कि विद्यार्थी हर गतिविधि में भाग लेकर अपना सर्वांगीण विकास कर सकें। इसके लिए नियमित रूप से विभिन्न प्रतियोगिताएं जैसे भाषण, वाद-विवाद, विज्ञान प्रश्नोत्तरी, नृत्य, नाटक, निबंध लेखन आदि का आयोजन किया जाता है और इसमें श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले विद्यार्थियों को इनाम देकर सम्मानित किया जाता है।

विद्यालय छात्र संख्या और स्टाफ – विद्यालय में नर्सरी से जमा दो कक्षा तक  865 विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। स्कूल में लगभग 61 शिक्षक एवं गैर शिक्षक स्टाफ  उपलब्ध है। समस्त शिक्षक वर्ग उच्च शिक्षा तथा अनुभव प्राप्त है, जो पूरी लगन व मेहनत से बच्चों को पढ़ाते हुए उनके भविष्य का निर्माण करते हैं। सारे  स्टाफ  को सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत ईपीएफ की सेवाओं का लाभ प्राप्त हो रहा है। छात्रों की प्रतियोगी परीक्षाओं में भाग लेने के लिए तैयार करने के लिए विद्यालय में  हमीरपुर व बंगलूर की प्रसिद्ध अकादमी चाणक्य दि गुरु से एक करार के अंतर्गत सहयोग लिया जा रहा है।

सुविधाएं – हिम सर्वोदय विद्यालय में छात्रों के लिए आधुनिक प्रयोगशालाएं जैसे जीव-विज्ञान, भौतिक विज्ञान, रसायन-विज्ञान और सूचना प्रौद्योगिकी आदि उपलब्ध हैं। विद्यालय  में स्मार्ट क्लास का भी प्रावधान है, जहां उच्च तकनीक के माध्यम से बच्चों को शिक्षा प्रदान की जाती है। पुस्तकालय में विभिन्न विषयों की पुस्तकें, मैगजीन व समाचार पत्र हैं।

विद्यालय का परीक्षा परिणाम-  स्कूल प्रदेश शिक्षा बोर्ड और प्रतियोगी परीक्षाओं में अव्वल रहने के लिए प्रदेश भर में मशहूर है। गत वर्ष भी जमा दो का परीक्षा परिणाम 98 प्रतिशत रहा है। जमा दो कक्षा में 110 विद्यार्थियों में से 34 विद्यार्थियों ने 80 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किए। वहीं दसवीं कक्षा का परीक्षा परिणाम 95 प्रतिशत रहा है।

क्या कहते हैं प्रिंसीपल- स्कूल के प्रिंसीपल राजेश गर्ग का कहना है कि स्कूल की सफलता का मूलमंत्र विद्यालय प्रबंधन द्वारा स्कूल में कार्यरत अध्यापकों व अन्य कर्मचारियों की सुख-सुविधा का पूरा ध्यान रखना है। यदि अध्यापक वर्ग का मनोबल बना रहेगा तभी वे संतुष्ट मन से बच्चों के भविष्य का निर्माण कार्य पूरी लगन  व मेहनत के साथ करेंगे

स्कूल की 2017 की उपलब्धियां…

-हिम सर्वोदय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल घुमारवीं के पांच बच्चों का चयन एनईईटी (एमबीबीएस)में हुआ।

-दसवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा में स्कूल की स्वाति शामा प्रदेश भर में सातवीं पोजीशन पर रही।

-जमा दो की बोर्ड परीक्षा में स्कूल की स्वाति शर्मा ने दसवां स्थान हासिल किया।

-जिला चिल्ड्रन साइंस कांग्रेस में सीनियर वर्ग में बच्चों की पहली पोजीशन।

-स्कूल के अंकेश भारद्वाज ने कुश्तियों में हिमाचल की टीम का प्रतिनिधितत्व किया।

– राजकुमार सेन, घुमारवीं

You might also like