बद्दी में धू-धू जली 60 झुग्गियां

भुड्ड में भड़की लपटों से 15 लाख का नुकसान, 48 परिवार अब बिना छत, 90 जलने से बचाईं

बीबीएन – औद्योगिक कस्बे बद्दी के तहत भुड्ड में अचानक लगी आग से प्रवासी कामगारों की 60 झुग्गियां जलकर राख हो गईं, आगजनी से करीब 15 लाख की संपत्ति खाक होने का अनुमान है। दमकल केंद्र बद्दी ने आगजनी की सूचना मिलते ही घटनास्थल का रुख किया और करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया और करीब 90 झुग्गियों को आग की भेंट चढ़ने से बचा लिया। इस घटना में 48 प्रवासी परिवारों की आशियाने राख होने के साथ-साथ लाखों की नकदी, बरतन, कपड़े, राशन, बच्चों की किताबें आग की भेंट चढ़ गए। एसडीएम नालागढ़ ने घटना की सूचना मिलते ही घटनास्थल का रुख किया और पीडि़त परिवारों को पांच-पांच हजार रुपए की फौरी राहत मुहैया करवाई। दोपहर को मलकूमाजरा में मोरपेन रोड पर प्रवासी कामगारों की नदी किनारे बनी एक झुग्गी से उठी आग की लपटों ने देखते ही देखते प्रवासी कामगारों की झुग्गियोंं को चपेट में ले लिया, जिस कारण करीब 15 लाख रुपए का नुकसान हुआ है, जबकि दमकल विभाग ने तुरंत कार्रवाई करते हुए 22 लाख की संपत्ति जलने से बचा लिया है। घटनास्थल पर पहुंचते ही दमकल विभाग की टीम ने मोर्चा संभालते हुए करीब एक घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया। दमकल विभाग ने कड़ी मशक्कत द्वारा साथ लगती 90 झुग्गियों को जलने से बचा लिया। दमकल कर्मी अगर समय पर नहीं पंहुचते, तो अग्निकांड से काफी बड़ा हादसा हो सकता था। आग की चपेट में आई झोंपडि़यों के ऊपर से गुजर रही बिजली की तारें भी पिघलकर टूट गईं, जिसके चलते उद्योगों की बिजली भी बाधित हुई। इस अग्निकांड के चलते प्रवासियों द्वारा रखे गैस सिलेंडरों के धमाके भी सुनाई दिए। झोंपडि़यों में प्रवासी कामगार रह रहे थे, जो स्थानीय उद्योगों आदि में मजदूरी करते हैं और अग्निकांड के दौरान ज्यादातर कामगार काम पर गए हुए थे। हालांकि इस अग्निकांड में कोई जानी नुकसान नहीं हुआ, मगर प्रवासी मजदूरों को आर्थिक तौर पर लाखों का नुकसान हुआ है। अग्निशमन अधिकारी बद्दी प्रकाश चंद ने बताया कि आग लगने से लगभग 60 झुग्गियां जलकर राख हो गई है, जबकि 90 झुग्गियों को जलने से बचा लिया गया है। इस घटना में करीब 15 लाख का नुकसान हुआ है, जिसमें प्रवासियों के कपडे़, खाने-पीने का सामान, नकदी व इलेक्ट्रॉनिक्स जलकर खाक हो गया, जबकि 22 लाख की संपत्ति जलने से बचा ली गई है। उपमंडलाधिकारी नालागढ़ आशुतोष गर्ग व नायब तहसीलदार राजकुमार पोसवाल ने भी मौके का दौरा कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। एसडीएम नालागढ़ ने बताया कि सभी प्रभावित परिवारों को प्रशासन ने पांच-पांच हजार रुपए की फौरी राहत दी है।

सरकारी जमीन पर थी झोंपडि़यां

बद्दी के भुड्ड में अग्निकांड की भेंट चढ़ी करीब 60 झोंपडि़यां पर्यटन विभाग की जमीन पर अवैध रूप से बनी हुई थीं। पर्यटन विभाग ने भी कभी अपनी यह कीमती जमीन खाली करवाने की हिम्मत नहीं दिखाई। हालांकि नालागढ़ के तत्कालीन एसडीएम व बद्दी तहसील प्रशासन ने पिछले साल इन झोंपडि़यों को खाली करवाने के लिए कार्रवाई करते हुए सात झोंपडि़यां तोड़ी थीं, मगर किसी पर कोई असर नहीं हुआ। प्रशासन ने कई बार नोटिस भी दिए। बताया जा रहा है कि पर्यटन विभाग की करीब 30-35 बीघा जमीन पर करीब 200 अवैध झोंपडि़यां बनी हुई हैं। यहां तीन बार आगजनी की घटनाएं हो चुकी हैं।

कामगारों की नकदी स्वाह

सुनील महतो व चुनचुन कुमार के दस-दस हजार रुपए की नकदी व मोबाइल, रोहन मेहतो के 50 हजार रुपए, भुवनेश्वर सिंह के 35 हजार, श्रवण मुखिया के 30 हजार, पप्पू मुखिया व उमेंद्र मुखिया के दस-दस हजार, नरेश के 22 हजार, जगन्नाथ व कन्हैया पांच-पांच हजार, राजबली 2500, स्वपन के पांच हजार सहित अन्य दर्जनों कामगारों की नकदी, कपड़े, राशन स्वाह हो गया।

You might also like