बारिश-बर्फबारी ने बढ़ाई ठंड, मुश्किल में जान

अधिकतम तापमान में नौ डिग्री तक की भारी गिरावट, शेष हिमाचल से कटीलाहुल-स्पीति, पांगी वैली

शिमला— पहाड़ी इलाकों में मंगलवार को भी जमकर हुई बर्फबारी और मैदानी इलाकों में तेज हवाओं के साथ झमाझम बारिश ने समूचे प्रदेश को शीतलहर की चपेट में ले लिया है। मंगलवार को अधिकतम तापमान में दो से नौ डिग्री सेल्सियस तक की भारी गिरावट दर्ज की गई। न्यूनतम पारा भी दो डिग्री तक लुढ़का है। हिमपात से जिला शिमला में आठ और किनौर में दस मार्ग वाहनों की आवाजाही के लिए बंद पड़ गए हैं, जबकि लाहुल-स्पीति व पांगी वैली का संपर्क शेष हिमाचल से कट  गया है। प्रदेश में पहले ही हिमपात ने जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। प्रदेश के कोठी में सबसे अधिक 37 सेंटीमीटर हिमपात रिकार्ड किया गया। इसके अलावा केलांग में 31.0, कल्पा में 10.0, बिजौरा, भरमौर में 5.0, छतरी में 4.0 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई। प्रदेश की धौलाधार पर्वत शृंखला, नारकंडा खड़ा पत्थर, कुफरी में भी इस विंटर सीजन का पहला हिमपात हुआ है। राज्य के कल्पा व डलहौजी का अधिकतम पारा लुढ़क कर 5.0 डिग्री से नीचे, जबकि कल्पा व केलांग का न्यूनतम पारा माइनस में पहुंच गया है। मनाली का तापमान भी शून्य डिग्री में पहुंच गया है। मंगलवार को राजधानी शिमला में अधिकतम तापमान 8.3, सुंदरनगर में 13.9, भुंतर में 12.2, कल्पा में 4.0, धर्मशाला में 12.8, ऊना में 15.2, नाहन में 18.0, सोलन में 12.2, कांगड़ा में 12.7, डलहौजी में 2.1, चंबा में 9.0 और हमीरपुर में 14.6 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। उधर, प्रदेश के जनजातीय जिला किन्नौर में मंगलवार को इस सीजन की दूसरी बर्फबारी हुई। सोमवार देर रात से शुरू हुआ हिमपात का सिलसिला मंगलवार को भी जारी रहा। किन्नर कैलाश पूरी तरह सफेद चादर से ढक गया है। खबर लिखे जाने तक कल्पा में चार इंच,छितकुल में दो फुट, सांगला में चार इंच, रकछम में डेढ़ फुट, रोपा वैली में चार इंच, असरंग मे डेढ़ फुट बर्फ दर्ज गिर चुकी थी। जानकारों की मानें तो दिसंबर की बर्फबारी सेब के पौधों के लिए अमृत तुल्य है। मौसम विभाग के निदेशक डा. मनमोहन सिंह ने बताया कि प्रदेश प्रदेश में आगामी दो दिन मौसम खराब बना रहेगा।

कल्पा में 9.0 डिग्री लुढ़का पारा

बारिश-बर्फबारी से कल्पा के अधिकतम तापमान में सर्वाधिक 9.0 डिग्री की गिरावट आई है। इसके अलावा शिमला-सोलन में 6.0, चंबा में 5.0, नाहन में 4.0, सुंदरनगर-भुंतर-धर्मशाला-ऊना में 2.0 डिग्री तक तापमान गिरा है।

सफेद फाहों से झूमे पर्यटक

सीजन की पहली बर्फबारी से ही प्रदेश के पर्यटनस्थल सैलानियों से गुलजार हो गए हैं।  शिमला के कुफरी, नारकंडा, डलहौजी व मनाली में काफी संख्या में सैलानियों के पहुंचने की सूचना है, जिससे पर्यटन कारोबार ने गति पकड़ ली है।

आज भी कई स्थानों पर बारिश

मौसम विभाग ने पूर्वानुमान जारी करते हुए बुधवार को भी राज्य के कई स्थानों पर बारिश की संभावना जताई है। खराब मौसम का यह दौर गुरुवार को भी जारी रहेगा। प्रदेश को 15 से थोड़ी राहत मिलेगी और 18 तक समूचे प्रदेश में मौसम शुष्क रहेगा।

डलहौजी में 108 मिलीमीटर बारिश

मंगलवार को डलहौजी में सबसे अधिक 108 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। वहीं देहरा-गोपीपुर में 96, धर्मशाला में 85, गगल में 65, चंबा में 63, पालमपुर में 60, मनाली में 56 व जोगिंद्रनगर में 42 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई।

You might also like