फर्जी आरसी पर नपे दो अफसर

मंडी लग्जरी गाड़ी चोरी मामले में ट्रांसपोर्ट अथारिटी के अधिकारियों के खिलाफ चालान तैयार

शिमला— मंडी लग्जरी गाड़ी चोरी से संबंधित एक मामले में सीआईडी ने चालान तैयार कर लिया है। सीआईडी ने गाडि़यों की फर्जी आरसी तैयार करने के मामले में स्टेट ट्रांसपोर्ट अथारिटी (एसटीए) के दो अधिकारियों के खिलाफ चालान तैयार किया है। इस मामले में सरकार से अभियोजन की मंजूरी मांगी गई है। मंडी वाहन चोरी के मामले की सीआईडी जांच कर रही है। जांच में सामने आया है कि स्टेट ट्रांसपोर्ट अथारिटी में तैनात रहे एक क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी और एमवीआई ने तीन गाडि़यों की फर्जी आरसी तैयार करवाई थी। जिन गाडि़यों के मॉडल नंबर पर यह आरसी बनाई गई थी, वे वास्तव में थी ही नहीं। जांच में पाया गया कि आरसी बनाने के लिए जो दस्तावेज लिए गए थे, वे फर्जी हैं। इस फर्जीबाड़े का राज उस वक्त खुला, जब सीआईडी ने मंडी में चोरी की गाडि़यां बरामद कीं। जांच में इस मामले में एसटीए में तैनात एक एमवीआई और एक क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी की भूमिका पाई गई है। हालांकि क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी अब रिटायर हो चुके हैं। सीआईडी ने इस मामले में उपरोक्त अधिकारियों के खिलाफ चालान तैयार कर दिया है। मंडी में साल 2016 में बड़े चोर गिरोह का मामला सामने आया था। यहां बाहरी राज्यों से चोरी के वाहन लाए जा रहे थे। शातिर इन वाहनों के चैसिस व इंजन नंबर बदल देते थे और बाद में अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर कागजात तैयार कर देते थे। मामला सामने आने के बाद आरंभ में इस मामले की जांच स्थानीय पुलिस ने की, लेकिन पुलिस के कुछ कर्मचारियों की इसमें भूमिका सामने आई थी।

अब तक हुई हैं 27 गिरफ्तारियां

करीब एक साल पहले मामला सीआईडी को सौंपा गया था। इस मामले में अब तक करीब एक दर्जन मामले दर्ज किए जा चुके हैं। मामले में अब तक 27 लोगों को गिरफ्तार किया गया, जबकि 40 से ज्यादा गाडि़यां बरामद की जा चुकी हैं। जांच में सामने आया है कि चोरी के अधिकतर वाहन दिल्ली व आसपास के चोरी हुए हैं, जबकि अन्य राज्यों से भी कुछ वाहन चोरी के पाए गए हैं। चोर गिरोह बाहर से इन वाहनों को चोरी करके लाता था और इसके सदस्य यहां इन वाहनों को बेच देते थे। बहरहाल, अब दो अधिकारियोें के खिलाफ चालान तैयार किया गया है।

You might also like