सूखे से पार पाने को बनाएं प्लान

प्रधान सचिव ने सभी जिला उपायुक्त को दिए निर्देश, वीडियो कान्फ्रेंसिंग से तैयारियों का लिया फीडबैक

शिमला— प्रधान सचिव राजस्व तथा आपदा प्रबंधन ओंकार शर्मा ने इस वर्ष के दौरान सूखे जैसी स्थिति से निपटने की तैयारियों का जायजा लेने के लिए विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ गुरुवार को बैठक की। बैठक में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी जिलों  उपायुक्तों ने भाग लिया।  ओंकार शर्मा ने बताया कि सभी जिलों में वर्षा आंकड़ों का विश्लेषण किया गया है तथा पाया गया कि प्रदेश में वर्षा ऋतु के बाद वर्षा में 49 प्रतिशत की कमी है। मौसम विभाग द्वारा उपलब्ध करवाई गई सूचना के आधार पर प्रदेश में 23 से 24 जनवरी के दौरान धीमी से सामान्य वर्षा के होने के आसार पाए गए हैं। उन्होंने कहा कि दिसंबर, 2017 के दौरान सभी जिलों में वर्षा होने के कारण रबी फसलों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। उन्होंने  जिलों के लिए सूखा आकस्मिक योजना तैयार करने व इसका जायजा लेने के निर्देश दिए। प्रधान सचिव ने कहा कि पेयजल क्षेत्र में कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। उन्होंने सभी क्षेत्र पदाधिकारियों को सूखे जैसी स्थितियों से निपटने के लिए आकस्मिक योजना तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग के पास प्रदेश में 45 पेयजल आपूर्ति परीक्षण प्रयोगशालाएं हैं जहां नियमित परीक्षण किए जाते है। विभाग ने प्रदेश के सभी जल भंडारण टैंकां की सफाई का कार्य सफलता से पूर्ण कर लिया है। उन्होंने सभी उपायुक्तों को उपमंडल स्तर पर पानी की गुणवत्ता की समय-समय पर जांच सुनिश्चित करवाने के निर्देश दिए। सभी जिलों को पेयजल स्त्रोतों को दूषित होने से बचाने के लिए बचाव उपाय करने तथा पीलिया जैसी जनजनित बीमारियों से बचाव के लिए सुपर क्लोरिनेशन प्रक्रिया आरंभ करने के निर्देश दिए हैं। श्री शर्मा ने कहा कि सभी उपायुक्तों तथा संबंधित विभागों को सूखे जैसी स्थिति से निपटने के लिए आकस्मिक योजना तैयार करने के लिए पहले ही सूचित कर दिया गया है। इसके अतिरिक्त पानी की कमी वाले क्षेत्रों के पानी के टैंकों तथा पशुओं के चारे के लिए आवश्यक प्रबंध करने के निर्देश दिए हैं।  उन्होंने कहा कि यदि समय रहते इंतजाम किए जाएंगे तो आपात स्थिति में लोगों को मुश्किलों से बचाया जा सकता है। विशेष सचिव राजस्व तथा आपदा प्रबंधन  डीसी राणा, निदेशक भारतीय मौसम विभाग मनमोहन सिंह, मुख्य अभियंता सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग, बागबानी तथा कृषि के वरिष्ठ अधिकारी भी बैठक में उपस्थित थे।

You might also like