Daily Archives

Nov 7th, 2018

पहाड़ी भाषा का संरक्षण और संवर्धन हो

उमा ठाकुर लेखिका, शिमला से हैं जनता और बुद्धिजीवियों से निवेदन है कि वे हमारी अमूल्य पहाड़ी भाषा को संविधान की आठवीं अनुसूची में स्थान दिलाने का प्रयास करें, ताकि हिमाचल की पहचान, और हर पहाड़ी भाषा बोलने वालों का मान ‘पहाड़ी बोली’ देश…

पूरा हो राम राज्य का सपना

प्रेम चंद माहिल, हमीरपुर त्रेतायुग में दशरथ का बेटा राम आया था, जिसने अपने पिता की आज्ञा का पालन करते हुए अपने परिवार को 14 साल जंगलों में घुमाया था। राम राज्य ऐसा था, जिसे आज भी फिर से हर भारतीय देखना चाहता है। राम राज्य में न्याय प्रणाली…

अब आठ को होगी जन चेतना रैली

केलांग—बर्फबारी के कारण स्थगित हुई किसानों की जन चेतना रैली अब आठ नवंबर को होगी। लाहुल घाटी किसान मंच के बैनर तले तीन नवंबर को केलांग में कई मुद्दों को लेकर एक विशाल रैली का आयोजन किया जाना था, लेकिन बर्फबारी के कारण रैली को स्थगित करना…

दिवाली को ईको फें्रडली बनाएं

अदित कंसल सोलन दिवाली रोशनी का उत्सव है। दिवाली का त्योहार उल्लास, प्रफुल्लता के साथ-साथ उस राम राज्य की स्थापना की प्रतिबद्धता का स्मरण दिलाता है, जिसमें सब प्रसन्न, स्वस्थ व संपन्न होंगे। दिवाली के अवसर पर आतिशबाजी व पटाखों के प्रयोग से…

ऊना में पेंशनरों की दिवाली फीकी

ऊना—हिमाचल प्रदेश पेंशनर्ज वेलफेयर एसोसिएशन ऊना ने प्रदेश सरकार के खिलाफ कड़ा रोष जताया है। प्रधान मेहर सिंह ने कहा कि जनवरी से स्वीकृत महंगाई भत्ते को दीपावली पर भी जारी नहीं किया गया है। इससे पेंशनर्ज में प्रदेश सरकार के खिलाफ खासा रोष…

हमारे करीब की दिवाली

दिवाली के हर नूर पर बाजार की मेहरबानी का हिसाब, इस बार ऑनलाइन शॉपिंग में मशगूल रहा, तो बाजारवाद में हमारी परंपराओं के दीये कैसे चिन्हित होंगे। हिमाचल में दिवाली की खनक अब बाजार के रिश्तों में अपनी रौनक का अंदाजा लगाती है, तो हट्टी की जलेबी…

राम के लिए विवादित नहीं!

एक बार फिर भगवान राम का संदर्भ और कुछ सवाल भी...! आज दीपावली है-सुख, समृद्धि, स्वच्छता, खुशहाली, आंतरिक शांति, प्रेम, पवित्रता, आनंद और मानव के अंतस को प्रज्वलित करने का पर्व। यह त्योहार प्रभु राम के संदर्भ के बिना अधूरा है। यदि रामायण को…

जानलेवा साबित होता एक रात का जश्न

योगेश कुमार गोयल लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं दिवाली पर साफ-सफाई की परंपरा रही है, किंतु अब हम दिवाली के अवसर पर जगह-जगह बारूद और कचरे का अंबार लगाकर ये कैसा जश्न मनाते हैं? दिवाली पर आतिशबाजी से प्रदूषण रूपी भयावह खतरे जिस तेजी से बढ़ रहे…