अंतरिम बजट लोकसभा में ध्वनिमत से पारित

नई दिल्ली-कांग्रेस तथा वाम दलों के बहिर्गमन के बीच लोकसभा ने वित्त वर्ष 2019-20 के पहले चार महीने के लिए लेखानुदान माँगों तथा उनसे जुड़े विनियोग विधेयक और वित्त विधेयक को सोमवार को ध्वनिमत से पारित कर दिया। सदन ने वित्त वर्ष 2018-19 की तीसरी अनुपूरक अनुदान माँगों एवं उनसे जुड़े विनियोग विधेयक को भी ध्वनिमत से मंजूरी दे दी। वित्त विधेयक 2019 में यह प्रावधान किया गया है कि कर की दरों में कोई बदलाव किये बिना पाँच लाख रुपये तक की आमदनी वालों को कर में 12,500 रुपये तक की छूट दी जायेगी।इससे पूर्व वित्त मंत्री पीयूष गोयल अंतरिम बजट पर करीब सात घंटे तक चली चर्चा का जवाब देते हुये विपक्ष के इन आरोपों को खारिज कर दिया कि सरकार ने एक तरह से पूर्ण बजट पेश कर परंपराओं का उल्लंघन किया है और बजट चुनाव को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। उन्होंने इन आरोपों को भी गलत बताया कि सरकार वित्तीय अनुशासन बनाये रखने में विफल रही है। उन्होंने कहा कि यदि यह पूर्ण बजट होता तो इसमें नयी घोषणाएँ की जातीं। उलटे पिछली सरकार ने 2014 में चुनाव से पहले अंतरिम बजट में महँगी गाड़ियों पर कर कम करके अमीरों को राहत देने का प्रयास किया था। हमने बजट में आम आदमी के लिए प्रावधान किया है। पाँच लाख रुपये तक की आमदनी वाले मध्यम वर्ग को कर में पूरी छूट दी है और असंगठित क्षेत्र के लिए पेंशन का प्रावधान किया है।

You might also like