अब रुकेगी निजी स्कूलों की मनमानी

शिमला – हिमाचल में निजी स्कूलों की बढ़ रही मनमानी रोकने के लिए जल्द कोई कानून बनेगा। सरकार ने निजी स्कूलों के खिलाफ कानून बनाने के संकेत दे दिए हैं। हालांकि हिमाचल में निजी स्कूलों की मनमानी पर अभी तक सरकार की ओर से केवल यही बयान दिए जा रहे हैं कि जल्द ही कोई कड़ा कदम उठाएंगे। उधर, निजी स्कूलों ने अभिभावकों से फीस वसलूना शुरू कर दिया है। शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा है कि निजी स्कूलों की मनमानी को वह भलीभांती जानते हैं। उन्होंने अभिभावकों तक यह नसीहत दी है कि वे सरकारी स्कूलों में अपने बच्चों को भेजें। सरकारी स्कूलों में भी निजी स्कूलों की तर्ज पर छात्रों को पढ़ाया व सुविधाएं दी जा रही हैं। उधर, निजी स्कूलों की कार्रवाई पर शिक्षा मंत्री का कहना है कि निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए आरटीई के नियमों को समझा जा रहा है। वहीं सरकार की तरफ से यह भी दावा किया जा रहा है कि शिक्षा अधिकारियों को आरटीई के नियमों-कानूनों की स्टडी करने के निर्देश दिए गए हैं। शिक्षा विभाग के अधिकारी आरटीई के नियमों और निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए बनाए गए कानूनों का अध्ययन कर सरकार को रिपोर्ट सौंपेगे। जब यह रिपोर्ट अधिकारियों द्वारा सरकार को सौंपी जाएगी, तो उसके बाद कोई सख्त नियम निजी स्कूलों पर उठाया जाएगा। हैरत तो यह है कि इसके लिए सरकार व विभाग को कितना समय लगेगा, यह कोई नहीं जानता है। बता दें कि प्रदेश सरकार जब तक निजी स्कूलों की मनमानी फीस वसूलने के मामले पर कोई फैसला लेगी, तब तक निजी स्कूल अभिभावकों से फीस भी वसूल चुके होंगे। अधिकतर अभिभावक स्कूलों में फीस जमा करवा चुके हैं। निजी स्कूलों द्वारा हर साल बढ़ाई जा रही फीस को लेकर 1997 में बने शिक्षा के अधिकार को भी लागू किया जा सकता है। राज्य सरकार जल्द ही शिक्षा अधिकारियों की रिपोर्ट को देखने के बाद उच्च लेवल की बैठक आयोजित करेगी। इस बैठक में निजी स्कूलों को लेकर कोई कानून और नियम पास किया जा सकता है।

You might also like