आनंदमय जीवन

ओशो

ओशो उपनिषद की व्याख्या करते हुए कहते हैं कि आप इस सांसारिक जीवन को पूर्ण रूप से जीते हुए भी इससे उपर उठ सकते हैं। उपनिषद जीवन विरोधी नहीं है और न ही यह जीवन को अपनाने से इनकार करता है। इसका उद्देश्य संपूर्णता को पाना है। जीवन को उसकी समग्रता के साथ जीना चाहिए। यह पलायनवाद नहीं सिखाता है, बल्कि यह चाहता है कि आप इस संसार में रहें, लेकिन सांसारिक मोह माया से उपर उठकर अर्थात आप इस संसार में तो रहें, लेकिन इसका हिस्सा बनकर नहीं। उपनिषद यह नहीं सिखाता कि आपको इस जीवन से बचना चाहिए या जीवन पाप है या बदसूरत है, बल्कि ये तो जीवन में आनंद भरता है। उपनिषद कहता है कि संसार भक्ति का प्रत्यक्ष रूप है और भक्ति संसार का। हर प्रत्यक्ष घटना के अंदर एक अप्रत्यक्ष बौद्धिक तत्त्व होता है। जब आप एक फूल को देखते हैं तो वह फूल प्रत्यक्ष रूप में आपके सामने है अर्थात आप उसे देख सकते हैं, लेकिन इसके अंदर भी एक अप्रत्यक्ष रूप है और वो न दिखने वाला रूप इसकी खुशबू है, जो इस फूल की आत्मा है। आप उस खुशबू को छू नहीं सकते और न ही फूल को तोड़कर उसकी तलाश कर सकते हैं। उसे पाने के लिए आपको एक कवि का दृष्टिकोण अपनाना होगा न कि एक वैज्ञानिक का। वैज्ञानिक दृष्टिकोण का विश्लेषण कवि के दृष्टिकोण से काफी अलग होता है। विज्ञान कभी भी एक फूल की सुदंरता को नहीं तलाश सकता, क्योंकि इसकी सुदंरता इसमें अप्रत्यक्ष रूप में समाहित होती है। विज्ञान केवल फूल के प्रत्यक्ष रूप की जांच कर सकता है और यह पता लगा सकता है कि यह किन-किन पदार्थों से बना है, लेकिन वह इसकी आत्मा को नहीं तलाश सकता। उपनिषद इस देश के लोगों की और विश्व के हर धार्मिक लोगों की आत्मा है। लोग उपनिषद से आनंद प्राप्त करते हैं, क्योंकि उपनिषद पूर्णता सिखाता है। परस्पर जुड़ी चीजों को वैसे ही रहना है जैसे वो हैं, लेकिन यह सब जानते हुए भी वो बदलते रहते हैं और लगातार उस अपरिवर्तन को याद रखते हैं। अपने चारो ओर की खूबसूरत दुनिया के सभी मौसम, उसके रंग, उसकी खूबसूरती और भव्यता को महसूस करने के लिए यह जरूरी है कि आप अपरिवर्तन के नियमों का पालन करें, लेकिन अपने जीवन में परिवर्तन को भी स्थान दें, अपरिवर्तन में केंद्रित रहें, लेकिन बदलाव को भी खुद से जुड़ने की अनुमति दें। इन सारी चीजों का भी आनंद लें, क्योंकि ये सब भगवान के प्रत्यक्ष रूप हैं। धर्म लगातार प्रत्यक्षता में अप्रत्यक्षता को तलाशता रहता है। इसके लिए किसी चीज से भागना आवश्यक नहीं है, बल्कि अपनी अंतरतम गहराई में तलाश करना है। यह उस स्थिर केंद्र को तलाश रही है, जो इस बवंडर का केंद्र है और यह हमेशा से वहां था और आप किसी भी पल उसका पता लगा सकते हैं। यह कोई ऐसी चीज नहीं है जिसे तलाशने के लिए आपको हिमालय पर जाना पड़े। यह आपके अंदर ही समाहित है।

You might also like