अंपायर पर आगबबूला हुए ‘कैप्टन कूल’ पर जुर्माना

नो बॉल न देने पर बीच मैदान में आकर की थी बहस, 50 फीसदी मैच फीस कटी 

जयपुर -आमतौर पर ठंडे दिमाग से खेलने वाले और कैप्टन कूल के नाम से मशहूर चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी राजस्थान रायल्स के खिलाफ मैच के आखिरी ओवर में नो बॉल को लेकर मैदानी अंपायर से उलझ पड़े। इसके चलते उन पर मैच फीस का 50 फीसदी जुर्माना लगाया गया है। चेन्नई और राजस्थान के बीच सवाईमान सिंह स्टेडियम में मैच के दौरान जब सुपरकिंग्स की टीम लक्ष्य का पीछा कर रही थी, तब कप्तान धोनी ने अंपायर से आखिरी ओवर में नो बॉल न देने पर बहस की। धोनी को खेल भावना से इतर व्यवहार करने के लिए इंडियन प्रीमियर लीग के आचार संहिता नियम 2.20 के तहत लेवल-2 का दोषी पाया गया है और मैच फीस का 50 फीसदी जुर्माना लगाया गया है। धोनी ने इन आरोपों को स्वीकार कर लिया है। राजस्थान और चेन्नई के बीच मैच के दौरान आखिरी ओवर में यह घटना हुई। इस मैच में चेन्नई ने आखिरी गेंद पर मिशेल सेंटनर के छक्के से चार विकेट से जीत अपने नाम की।  आईपीएल की ओर से जारी बयान के अनुसार, धोनी पर राजस्थान के खिलाफ मैच में आचार संहिता के उल्लंघन के लिए मैच फीस का 50 फीसदी जुर्माना लगाया गया है। धोनी ने 2.20 नियम के तहत लेवल-2 के अपराध को स्वीकार कर लिया है। आखिरी ओवर की तीसरी गेंद पर आउट होने वाले धोनी ने रोमांचक मैच में 58 रन की अर्द्धशतकीय पारी खेली। वह इसके लिए मैन ऑफ दि मैच भी चुने गए। इस जीत के बाद धोनी आईपीएल के सबसे सफल कप्तान भी बन गए हैं, जिनके नेतृत्व में टीम ने 100 मैच जीते हैं। धोनी ने गौतम गंभीर से 29 मैच अधिक जीते हैं, जो इस मामले में दूसरे नंबर पर हैं।

अंपायर से उलझना सही मिसाल नहीं

जयपुर -चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ आईपीएल मैच के दौरान नो बॉल के फैसले पर अंपायर से बहस के कारण काफी आलोचना झेलनी पड़ रही है। ‘कैप्टन कूल’ धोनी ने अपने स्वभाव के विपरीत आपा खो दिया और डग आउट से बाहर निकलकर अंपायर से बहस करने लगे। अंपायर उल्हास गांधे ने बेन स्टोक्स की गेंद नोबाल करार दी थी, लेकिन स्क्वेयर लेग अंपायर से मशविरे के बाद फैसला बदल दिया। धोनी पर मैच फीस का 50 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया। इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन, आस्ट्रेलिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज मार्क वॉ, भारत के पूर्व क्रिकेटर आकाश चोपड़ा और हेमांग बदानी ने धोनी की आलोचना की है। वॉन ने कहा, कप्तान का पिच पर आना सही नहीं है। मुझे पता है कि वह एमएस धोनी है और इस देश में वह कुछ भी कर सकते हैं, लेकिन डगआउट से निकलकर अंपायर पर अंगुली उठाना सही नहीं है। बतौर कप्तान उन्होंने गलत मिसाल पेश की है। वॉ ने ट्वीट किया, मुझे पता है कि टीमों पर फ्रेंचाइजी का दबाव होता है, लेकिन मैं दो घटनाओं से काफी निराश हूं। अश्विन और अब एमएस, यह अच्छा नहीं है। भारत के पूर्व बल्लेबाज चोपड़ा ने कहा, इस आईपीएल में अंपायरिंग का स्तर काफी खराब रहा है, वह निश्चित तौर पर नो बॉल थी, लेकिन विरोधी कप्तान को आउट होने के बाद यूं पिच पर आने का कोई अधिकार नहीं है। बदानी ने कहा, अंपायर को अधिकार था कि वह अपने फैसले को बदले। मैं धोनी की प्रतिक्रिया पर हैरान हूं। 

You might also like