कचरा फैलाया तो होगा जुर्माना

कुल्लू—जिला के कुछ भागों में कूडे़-कचरे की शिकायतों को उपायुक्त यूनुस ने गंभीरतापूर्वक लिया है। उन्होंने स्पष्ट तौर पर चेतावनी देते हुए कहा कि शहरों, उपनगरों अथवा पर्यटक गंतव्यों पर किसी प्रकार का कूड़ा-कचरा फैलाने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी और दोषी पाए जाने पर एक लाख रुपए तक का जुर्माना किया जाएगा। इसके अलावा पर्यावरण को दूषित करने वाले व्यक्ति को सजा का भी कानून में प्रावधान है और वह इस पर किसी प्रकार की ढील को बर्दाश्त नहीं करेंगे। उपायुक्त जिला को साफ.-सुथरा बनाने के लिए उठाए जाने वाले कदमों पर संबंधित अधिकारियों के साथ चर्चा कर रहे थे।  जिला में पर्यटन सीजन शुरू हो चुका है और विभिन्न दर्शनीय स्थलों पर प्लास्टिक कचरे की समस्या से दो-चार होना स्वाभाविक है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि प्रत्येक स्थल का निरीक्षण किया जाए। राष्ट्रीय राजमार्गों, ब्यास नदी तथा इसकी अन्य सहायक नदियों-नालों, शहरों-गांवों में जहां कहीं पर भी कोई व्यक्ति यत्र-तत्र कूड़ा फंेकते पाया जाता है, तो मौके पर तत्काल  चालान किया जाए।

समस्या से निपटने के लिए की जा रही निगरानी

उपायुक्त ने कहा कि जिला के विभिन्न भागों विशेषकर शहरी व अर्द्धशहरी क्षेत्रों, पर्यटन स्थलों व नदियों के किनारे कूड़ा फैलाने वालों पर कड़ी नजर रखी जा रही है। विभिन्न माध्यमों से ऐसे संवेदनशील स्थलों की सर्विलेंस की जा रही है। विभिन्न टीमों का गठन भी किया गया है, जो इस प्रकार की अनैतिक गतिविधियों पर नजर रख रही हैं।  उन्होंने प्रत्येक व्यक्ति को आगाह किया है कि वह अपनी जिम्मेदारी को समझे और एक अच्छे नागरिक होने की भूमिका को निभाए। उपायुक्त ने कहा कि प्लाटिक का कचरा सैकड़ों सालों तक यथास्थिति में रहता है और हमारी उपजाऊ जमीन की उर्वरकता को समाप्त कर देता है, नदी-नालों के जल को दूषित कर देता है, जिसका लोग किसी न किसी रूप में उपयोग कर रहे हैं। सबसे बड़ा पाप तो यह है कि इसको खाने से मवेशियों की मौत तक हो जाती है। इसलिए आम जनमानस से आग्रह भी है कि इस पाप का भागीदार न बनें।

You might also like