जिंदगी भर टांग खींची, अब झप्पी

वीरभद्र-सुखराम की जुगलबंदी पर बोले मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर

सरकाघाट, पटड़ीघाट —जिंदगी भर जो लोग एक-दूसरे की टांग खींचते रहे, आज वे झप्पी डाल रहे हैं। यह झप्पी आज सोशल मीडिया पर मजाक का विषय बनी हुई है। पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह और पंडित सुखराम की जुगलबंदी पर कटाक्ष करते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने ये बातें कहीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि वीरभद्र सिंह ने ही सुखराम को आया राम-गया राम कहा था, जबकि आज भाजपा पर इसका आरोप लगाया जा रहा है। उन्होंने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा कि अगर जयराम सरकार ने कुछ नहीं किया,  तो फिर कांग्रेस के लोगों को परेशानी किस बात को लेकर हो रही है। आज सरकार विकास के काम कर रही है और जनता सरकार के साथ पूरी तरह से जुड़ी हुई है, इसी बात को लेकर कांग्रेसी परेशान हैं। पूर्व की कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में रोजाना यही सुर्खियां बनी रहती थी कि किस नेता की पेशी कहां है, जबकि सत्ता परिवर्तन के बाद विकास कार्यों की खबरें सुर्खियों में छाई रहती हैं। सरकार ने आम वर्ग के लिए काम किया है और इस बात के लिए देश भर में हिमाचल को दूसरा स्थान मिला है। मुख्यमंत्री ने प्रदेश कांग्रेस के नेता पर भी तंज कसते हुए कहा कि एक छुटभैया नेता हिमाचल में जहां भी जाता है, हमें गालियां देता है। जयराम ठाकुर ने कहा कि आजकल कांग्रेसी नेता मंच पर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुझे पानी पी-पीकर गालियां दे रहे हैं और यह कह रहे हैं कि जयराम सरकार ने कुछ नहीं किया।

आज चुराह-डलहौजी के दौरे पर सीएम

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर सोमवार सुबह चुराह क्षेत्र का दौरा करेंगे। दोपहर बाद डलहौजी विधानसभा क्षेत्र के बनीखेत में जनसभाओं को संबोधित करेंगे। यह जानकारी भाजपा के प्रदेश महामंत्री एवं चुनाव प्रबंधन समिति के अध्यक्ष चंद्रमोहन ठाकुर ने दी।

पोते के चक्कर में बेटे का भविष्य दांव पर

सुखराम को अपने पोते को लांच करने की कुछ ज्यादा ही जल्दी पड़ी हुई थी। भाजपा ने सुखराम को थोड़ा इंतजार करने को कहा था, लेकिन सुखराम नहीं माने और पोते के चक्कर में अपने बेटे का राजनीतिक भविष्य दांव पर लगा दिया।

अब लोगों ने यह नाम रखना ही छोड़ दिया

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कांग्रेस के एक बड़े नेता पर भी जमकर तंज कसते हुए कहा कि अब तो लोगों ने अपने बच्चों का नाम पप्पू रखना ही छोड़ दिया है। मुख्यमंत्री के यह कहने के बाद पंडाल ठहाकों से गूंज उठा।

You might also like