टास्क फोर्स दूर करेगी पानी की कमी

अतिरिक्त मुख्य सचिव बाल्दी बोले, जल संरक्षण के लिए बनेगी टीम

शिमला —अतिरिक्त मुख्य सचिव डा. श्रीकांत बाल्दी ने सोमवार को जल संरक्षण की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि प्रदेश को समृद्ध बनाने और पानी की कमी से निपटने और पानी के संरक्षण के लिए अंतर विभागीय टास्क फोर्स का गठन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पद्मश्री राजेंद्र सिंह के दो दिवसीय सर्वेक्षण के बाद राज्य सरकार पानी के संरक्षण और पानी की कमी दूर करने के लिए उसके द्वारा सुझाई गई कार्य योजना का पालन करके प्रभावी कदम उठाएगी। प्रारंभिक स्तर पर यह कार्य अश्वनी खड्ड, गुम्मा तथा नॉटी खड्ड के तीन जलग्रहण क्षेत्रों में शुरू किया जाएगा तथा उसके बाद गिरि क्षेत्र को भी इसमें शामिल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राजेंद्र सिंह द्वारा विभिन्न छोटे पुलों पर चेकडैम बनाने के सुझावों को भी प्रदेश में लागू किया जाएगा। प्रदेश की टोपोग्राफिकल आवश्यकताएं जानने के लिए विस्तृत तौर पर सर्वेक्षण किया जाएगा। बाद में नियम तथा शर्तें निर्धारित करने के बाद यह प्रक्रिया राज्य के अन्य क्षेत्रों में भी शुरू हो जाएगी तथा पहाड़ी क्षेत्रों में पानी के संरक्षण की अन्य संभावनाएं भी देखी जाएंगी। कृषि, सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य, लोक निर्माण विभाग, ग्रामीण विकास तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग को भी इस कार्य में शामिल किया जाएगा। भारत के जलपुरुष के नाम से विख्यात पद्मश्री राजेंद्र सिंह ने कहा कि राज्य के विभिन्न क्षेत्रों का दौरा तथा टॉपोलॉजी का अध्ययन करने के बाद हिमाचल में जल समृद्धि उपलब्ध करवाने के लिए उपाय खोजने का प्रयास किया जा रहा है। बैठक में प्रमुख सचिव कृषि ओंकार चंद शर्मा, निदेशक ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज राकेश कंवर, भोपाल के जल विशेषज्ञ सुधींद्र मोहन शर्मा, राजस्थान के गोपाल सिंह तथा विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी व प्रतिनिधि उपस्थित थे।

You might also like