पांवटा में 30 बीघा से गेहूं की फसल राख

पांवटा साहिब—पांवटा साहिब मंे आगजनी की घटनाओं में भट्टी की मानिंद तप रहा पांवटा दून आग में घी डालने का काम कर रहा है। इससे जहां किसानों की फसलें राख हो रही हैं, वहीं तापमान में भी बढ़ोतरी हो रही है। यहां पर आगजनी की घटनाएं रोजाना सामने आ रही हैं। आग के तांडव से किसानों की मेहनत पर पानी फिर रहा है। रविवार को भी यहां के बातापुल के पास दो किसानों के करीब 30 बीघा खेत में खड़ी लाखों रुपए की गेहूं की फसल आगजनी की भेंट चढ़ गई। हालांकि सूचना पर फायर ब्रिगेड के कर्मी मौके पर पहुंचे और आगजनी पर काबू पाकर आसपास की गेहूं की फसल और अन्य करीब 10 लाख रुपए की संपत्ति को बचाने में कामयाब रही। जानकारी के मुताबिक बातापुल के पास रामशरण और ओम प्रकाश के गेहूं के खेतों में अचानक आग लग गई। किसानों का कहना है कि यह आग शार्ट सर्किट से लगी है। उनके खेतों के उपर बिजली की तारें बहुत नीची हैं जिन्हें हटाने की बिजली बोर्ड से कई बार शिकायत की जा चुकी है, लेकिन सुनवाई नहीं हुई और अब इस अनदेखी ने उनकी फसल स्वाह कर दी।  किसानों का कहना है कि विभागों को गर्मियों से पहले इन चीजों के बारे मंे पहले से ही सोचकर पुख्ता प्रबंध करने चाहिए, ताकि किसान भूखा न मरे लेकिन सालों से ऐसा ही चलता आ रहा है। किसान की इस देश में कौन सुनता है। वहीं फायर अधिकारी पांवटा प्रेम चौधरी ने बताया कि सूचना के बाद दोनों अग्निशमन वाहनों को लेकर टीमंे मौके पर पहुंची और आगजनी पर काबू पाया।

You might also like