रिज पर पहाड़ी नाटी पर धमाल

शिमला—हिमाचल दिवस के अवसर पर कुरुक्षेत्र गुरुकुल के छात्रों ने मलखंब खेल का जौहर दिखाया। रिज पर आयोजित 72वें समारोह के अवसर पर राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। इस दौरान मलखंब खेल आकर्षण का प्रमुख केंद्र रहा। इस दौरान स्कूली छात्रों ने रंगारंग कार्यक्रम कर दर्शकों की खूब तालियां बटोरीं। हिमाचल दिवस के उपलक्ष्य पर आकर्षक मार्च पास्ट भी किया गया। इस दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया गया, जिसका उपस्थित जन जमूह ने जम कर लुत्फ उठाया। शिमला के रिज मैदान में हिमाचल दिवस के मौके पर बड़ी संख्या में लोग पहुंचे। कार्यक्रम में हिमाचल प्रदेश की सभ्य संस्कृति को बखूबी ढंग से लोगों के सामने रखा गया। इस दौरान स्थानीय लोगों व स्कू ली बच्चों में भी खासा उत्साह रहा। कार्यक्र म में हिमाचल प्रदेश की संस्कृति को नृत्य व संगीत, नुक्कड़ नाटक के माध्यम से दर्शकों तक  पहुंचाया गया। छात्रों द्वारा मंडी की प्रसिद्ध लूडी नाटी ने दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। वहीं, स्कूली छात्रों द्वारा पहाड़ी नाटी कर लोगों को भी झूमने पर मजबूर कर दिया। वहीं, कार्यक्रम में मुख्य आकर्षक का के ंद्र कुरूक्षेत्र से आए गुरूकुल के छात्रों की सुंदर मनमोहक मलखंब व योग की प्रस्तुति रही। कुरूक्षेत्र से आए छात्रों द्वारा मलखंब का सुंदर व आकर्षक कृत्य दिखाया गया। छात्रों द्वारा ऐसा योग व आसन किए गए जो आम आदमी के लिए करना बहुत मुश्किल होता है। वहीं, दर्शकों ने भी कुरूक्षेत्र गुरूकु ल के छात्रों की खूब प्रसंसा की। बता दें कि मलखंब भारत का पारंपरिक खेल है, जिसमें खिलाड़ी लकडी के एक उर्ध्व खंभे या रस्सी के ऊपर तरह तरह  के करतब दिखाते हैं। खंभ को मलखंब भी कहा जाता है। यह दो शब्दों से मिलकर बना है। मल्ल बलवान या योद्धा व खंभ खंभा। इस खंभे के प्रयोग से छात्रों ने बहुत सुंदर तरीके से  करतब किया। इस मौके पर जिला मतदान कार्यालय द्वारा प्रस्तुत की गई लघु नाटिका, जिसमें लोगों को मतदान के लिए जागरूक किया गया, भी आकर्षण का केंद्र रही। मुख्य सचिव बीके अग्रवाल, पुलिस महानिदेशक एसआर मरडी, अतिरिक्त मुख्य सचिव, सचिव तथा प्रदेश सरकार के वरिष्ठ अधिकारी तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।

You might also like