लेबर अफसर बद्दी के तबादले पर डीसी-एसडीएम में टकराव

 चुनाव आयोग के निर्देश पर बिठाई गई जांच में दोनों अफसरों की विरोधाभासी रिपोर्ट से हर कोई हैरान

शिमला —बद्दी के लेबर अफसर के तबादले को लेकर डीसी-एसडीएम   टकराव के मोड में आ गए हैं। चुनाव आयोग के निर्देश पर पेश की गई जांच रिपोर्ट में डीसी सोलन ने लेबर अफसर को ट्रांसफर करने की सिफारिश की है। इसके विपरीत संबंधित एसडीएम ने लेबर अफसर को क्लीन चिट जारी कर बद्दी से न हटाने की रिपोर्ट भेजी है। इस कारण चुनाव आयोग के निशाने पर आए राज्य सरकार के लेबर अफसर के खिलाफ पेश की गई विरोधाभासी जांच रिपोर्ट्स ने सबको हैरान कर दिया है।  एक ही मामले में दोनों अधिकारियों की विरोधाभास रिपोर्टों से राज्य सरकार और चुनाव आयोग सकते में है।  सूचना के अनुसार बद्दी-बरोटीवाला नालागढ़ इंडस्ट्रियल एसोसिएशन लेबर अफसर के खिलाफ चुनाव आयोग को शिकायत भेजी थी। इसमें एसोसिएशन ने अधिकारी के एक ही पोस्ट पर लंबे समय से डटे रहने और कई तरह के गंभीर आरोप लगाए थे। इन आरोपों की पुष्टि के लिए चुनाव आयोग ने डीसी सोलन तथा संबंधित एसडीएम नालागढ़ से जांच रिपोर्ट तलब की थी। रोचक है कि एसडीएम नालागढ़ ने लेबर अफसर को आरंभिक जांच में ही क्लीन चिट जारी कर बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के आरोपों को खारिज कर दिया था। एसडीएम ने अपनी जांच रिपोर्ट में कहा था कि लेबर अफसर के खिलाफ लगाए गए आरोपों की पुष्टि नहीें हुई है।  यह एसोसिएशन के पदाधिकारियों का निजी मामला हो सकता है। बताते चलें कि इसी मामले में डीसी सोलन की जांच रिपोर्ट बिलकुल विपरीत है। उन्होंने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि एसोसिएशन के पदाधिकारियों के आरोप गंभीर है। चूंकि लेबर अफसर लंबे समय से बद्दी में तैनात है।   इस कारण एसोसिएशन के आरोपों को खारिज नहीं किया जा सकता। लिहाजा डीसी सोलन ने लेबर अफसर को तुरंत प्रभाव से बद्दी से ट्रांसफर करने की सिफारिश की है। दोनों प्रशासनिक अधिकारियों की विरोधाभास वाली रिपोर्ट के बाद चुनाव आयोग भी हैरान हो गया है। हालांकि आयोग ने डीसी सोलन की रिपोर्ट पर गंभीरता दिखाई है। इसके चलते डीसी सोलन को लेबर अधिकारी के खिलाफ और विस्तार से टिप्पणी करने को कहा है।

चुनाव आयोग के राडार पर ड्रग अफसर

चुनाव आयोग के राडार पर स्वास्थ्य विभाग का एक ड्रग अधिकारी भी चल रहा है। अधिकारी के खिलाफ चुनाव आयोग में गंभीर आरोपों के साथ शिकायत की गई है। इसके अलावा ड्रग अधिकारी के खिलाफ पुलिस में शिकायत हुई है। इसके चलते सोमवार को इस अधिकारी के खिलाफ की गई एक अन्य जांच के मामले में पुलिस की टीम राज्य निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय में पहुंची थी।

 

You might also like