60.79 फीसदी रहा दसवीं का रिजल्ट,  फिर छाई बेटियां

111980 परीक्षार्थियों में से 67319 पास, 6395 की कंपार्टमेंट, इतिहास में पहली बार अप्रैल में ही आ गया परिणाम

धर्मशाला –हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड की दसवीं कक्षा का सोमवार को घोषित परीक्षा परिणाम 60.79 प्रतिशत रहा। रिजल्ट में पिछले वर्ष (63.30) के मुकाबले तीन प्रतिशत की गिरावट आई है। दसवीं में इस बार कुल एक लाख 11 हजार 980 छात्रों ने परीक्षा दी थी, जिसमें 67319 पास हुए, जबकि 36892 फेल व 6395 की कंपार्टमेंट आई है। बोर्ड के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है, जब अप्रैल माह में ही रिजल्ट घोषित कर दिया गया है। प्रदेश के सवा लाख छात्रों को परीक्षा समाप्त होने के मात्र 39 दिनों के भीतर ही परिणाम मिल गया है। शिक्षा बोर्ड की दसवीं की परीक्षा में भी मैरिट लिस्ट में बेटियों ने ही दबदबा बनाया है। राज्य भर में मैरिट में कुल 39 छात्रों ने अपना स्थान बनाया है, जिनमें बेटियों ने 28 स्थानों पर कब्जा जमाया है। बेटों को मात्र 11 स्थानों से ही संतोष करना पड़ा है। हालांकि पहले स्थान पर लड़का रहा है, लेकिन ओवरआल लड़कियां ही आगे रही हैं। शिक्षा बोर्ड ने नियमित, कंपार्टमेंट, श्रेणी सुधार और अतिरिक्त विषय के परीक्षार्थियों के परीक्षा परिणाम एक साथ आउट किया है। प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष डा. सुरेश कुमार सोनी ने बताया कि दसवीं के जो परीक्षार्थी पुनर्मूल्यांकन व पुनर्निरीक्षण करवाना चाहते हैं, वे प्रति उत्तरपुस्तिका पुनर्मूल्यांकन शुल्क पांच सौ रुपए तथा पुनर्निरीक्षण के चार सौ रुपए प्रति उत्तरपुस्तिका की दर से 13 मई, 2019 तक प्रवेश पत्र एवं फीस संबंधित स्कूल के प्रधानाचार्य के माध्यम से ऑनलाइन कार्यालय को भेज सकते हैं। ऑफलाइन कोई भी आवेदन पत्र स्वीकार नहीं किया जाएगा।

अगले सप्ताह आएगा एसओएस का परिणाम

शिक्षा बोर्ड द्वारा एसओएस आठवीं, दसवीं और जमा दो का परीक्षा परिणाम अगले माह के पहले सप्ताह में ही जारी कर दिया जाएगा। बोर्ड अध्यक्ष डा. सुरेश कुमार सोनी ने यह जानकारी दी।

साइंटिस्ट बनेगा दसवीं का टॉपर अथर्व

धनेटा। दसवीं की परीक्षा में 98.71 प्रतिशत अंक लेकर प्रदेशभर में प्रथम स्थान हासिल करने वाला अथर्व ठाकुर साइंटिस्ट बनना चाहते हैं। अथर्व हमीरपुर जिला के गीतांजलि पब्लिक स्कूल गलोल, धनेटा के छात्र हैं। रोजाना 12 से 13 घंटे तक पढ़ाई करने वाले अथर्व अपनी इस कामयाबी का श्रेय अपने माता-पिता के साथ अपने शिक्षकों को देते हैं। अथर्व के पिता फिजिक्स के लेक्चरर हैं और माता गृहिणी हैं। अथर्व ने कहा कि वह इस सफलता पर बहुत खुश है। मुझे यह तो यकीन था कि मैं मैरिट में जगह बना लूंगा, लेकिन प्रथम आऊंगा, इसका यकीन नहीं था।

करोड़ों खर्च कर भी सरकारी स्कूल फिसड्डी

दसवीं में मैरिट में आए 39 छात्रों में से सरकारी स्कूल से मात्र एक निधि

 धर्मशाला -हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा घोषित दसवीं के रिजल्ट में प्राइवेट स्कूलों का दबदबा रहा है और करोड़ों रुपए खर्च करने के बावजूद सरकारी स्कूल फिसड्डी साबित हुए हैं। दसवीं की मैरिट लिस्ट में शामिल कुल 39 छात्रों में सरकारी स्कूल की केवल एक ही छात्रा शामिल है। रिजल्ट में ऊना जिला की राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला घनियारी की छात्रा निधि ने 682 अंक लेकर टॉप-टेन की लिस्ट में दसवां स्थान हासिल कर सरकारी स्कूलों की लाज बचाई है। मैरिट सूची में शामिल 39 छात्रों में से 38 प्राइवेट स्कूलों से ही हैं। उक्त लिस्ट में इस बार सरकारी स्कूल पूरी तरह से गायब हो गए हैं। ऐसे में अब केंद्र और प्रदेश सरकार द्वारा करोड़ों रुपए सरकारी स्कूलों पर खर्च किए जाने पर भी कई सवाल उठने लगे हैं। इतना ही नहीं अध्यापकों की कार्यप्रणाली और सरकारों की अध्यापकों पर गैर-शैक्षणिक कार्य थोपने की प्रक्रिया भी बड़े सवालों के घेरे में आ गई है। इतना ही नहीं सरकारी अध्यापकों को प्राइवेट स्कूलों के अध्यापकों के मुकाबले कई गुना अधिक वेतन भी दिया जा रहा है। बावजूद इसके परीक्षा परिणामों में सरकारी स्कूल फिसड्डी साबित हो रहे हैं। सरकारी स्कूलों में मुफ्त किताबें, वर्दी, बैग, खाना, स्वास्थ्य सुविधाओं सहित मुफ्त शिक्षा तो प्रदान की जा रही है, लेकिन अब गुणवत्तावपूर्ण शिक्षा न होने से प्राइवेट स्कूल अधिक हावी होते हुए नजर आ रहे हैं। ऐसे में समाज के बुद्धिजीवी वर्ग और शिक्षाविदों ने सरकार से शिक्षा में गुणवत्ता लाए जाने के लिए ठोस कदम उठाए जाने की भी मांग उठाई है, जिससे परिणामों में सुधार देखने को मिल सकें।

शिमला के हाई स्कूल धाली में एक भी छात्र नहीं हुआ पास

शिमला –जिला शिमला मुख्यालय से मात्र 40 किलोमीटर दूर स्थित राजकीय पाठशाला धाली में पढ़ाई का हाल इतना बुरा है कि इस बार दसवीं की परीक्षा में स्कूल का एक भी छात्र पास नहीं हुआ है। स्कूल में कुल 19 छात्र दसवीं में थे और इनमें से 18 फेल हो गए हैं, जबकि एक की कंपार्टमेंट आई है। स्कूल के खराब रिजल्ट के पीछे शिक्षकों के पांच पद खाली होना बताई जा रही है। महत्त्वपूर्ण यह है कि सात मार्च को ही शिक्षा मंत्री कोटी स्थित वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला आए थे और वहां पर धाली पाठशाला की स्कूल मैनेजमेंट कमेटी ने धाली में यथाशीघ्र अध्यापकों की नियुक्ति की गुहार लगाई थी, लेकिन अध्यापकों की कोई नियुक्ति नहीं हो पाई। उधर स्कूल के प्रिंसिपल टीएस जसवाल ने बताया कि स्कूल में तीन ही टीचर हैं। उनमें से एक एलटी, एक ड्राईंग टीचर और एक पीटीआई हैं। ऐसे में स्कूल का रिजल्ट कैसे अच्छा आ सकता था।

दसवीं की मैरिट लिस्ट

स्थान      नाम                    अंक       स्कूल,जिला

पहला     अथर्व ठाकुर           691      गीताजंलि पब्लिक स्कूल गलोल, हमीरपुर

दूसरा     पारस                   690      सरस्वती विद्या मंदिर मैरी सरकाघाट, मंडी

दूसरा    धु्रव शर्मा            690      एस विद्या मंदिर स्कूल नम्होल,बिलासपुर

दूसरा    रिधी शर्मा           690      एंग्लो संस्कृत मॉडर्न स्कूल, मंडी

तीसरा   कोंपल जिंटा         689      ग्लोरी इंटरनेशनल स्कूल रोहडू, शिमला

तीसरा   साक्षी                    689      गीताजंलि पब्लिक स्कूल गलोल, हमीरपुर

चौथा    रुचिरा सिंह           688      एसबीएम हाई स्कूल परागपुर, कांगड़ा

चौथा    मन्नत राणा          688      भारती विद्यापीठ स्कूल बैजनाथ, कांगड़ा   

पांचवां   कृतिका ठाकुर       687      भारती विद्यापीठ स्कूल बैजनाथ, कांगड़ा

पांचवां   लोकेश्वरी            687      मॉडल इंस्टीच्यूट ऑफ एजुकेशन टिहरा, मंडी

छठा     अंश वर्मा               686      लॉर्ड्स कान्वेंट पब्लिक स्कूल सरकाघाट, मंडी

छठा     साक्षी आनंद            686      दि मैग्नेट पब्लिक स्कूल, हमीरपुर

छठा     वैष्णवी शर्मा            686      मॉडल इंस्टीच्यूट ऑफ एजुकेशन, टिहरा, मंडी

छठा     अक्षिता शर्मा            686      भारती विद्यापीठ बैजनाथ, कांगड़ा

सातवां   रक्षित                    685      एस विद्या मंदिर स्कूल भटेड़, बिलासपुर

सातवां   दिशा शर्मा               685       भारती विद्यापीठ पब्लिक स्कूल बैजनाथ, कांगड़ा

सातवां   कोमल धीमान          685       गीताजंलि पब्लिक स्कूल गलोल, हमीरपुर

सातवां   स्मृति                    685       कौल वैली स्कूल नेहर, बिलासपुर

सातवां   नाशिका     685       ग्रीन फील्ड पब्लिक स्कूल सिंहूता, चंबा

सातवां  अनीशा धीमान          685       एनडी स्कूल गलोड़, हमीरपुर

सातवां  आदित्य मल्होत्रा        685       एम एकेडमी बगकुंलज संघोल, कांगड़ा

सातवां  विश्रुत ठाकुर             685       ग्लोरी पब्लिक स्कूल, बिलासपुर           

आठवां  सृष्टि चौधरी             684       डीआर पब्लिक स्कूल गगरेट, ऊना        

आठवां  अनन्या सूरी              684       राइजिगं स्टार स्कूल चंबा

आठवां  कृति चौहान              684       एसबीएन पब्लिक स्कूल राजगढ़, सिरमौर

आठवां  आस्था मेहता            684       अराधना पब्लिक स्कूल रोहड़, शिमला

नौवां    सिखा कौंडल            683       हिमालयन पब्लिक स्कूल नगरोटा बगवां, कांगड़ा

नौवां    पल्लवी                   683       किंग जॉर्ज रॉयल पब्लिक स्कूल, कांगड़ा

नौवां   महक धीमान            683       आर्य पब्लिक स्कूल बंगाणा, ऊना

नौवां   कशिश                    683       ग्लोरी इंटरनेशनल स्कूल रोहडू, शिमला

नौवां   महक                      683       ग्लोरी इंटरनेशनल स्कूल रोहडू, शिमला

दसवां  निधि                      682       जीएसएसएस घनियारी,ऊना

दसवां  आर्यन राणा          682       लॉर्ड्स कॉन्वेंट स्कूल सरकाघाट, मंडी

दसवां  रिजुल ठाकुर           682       एसडी पब्लिक स्कूल, हमीरपुर

दसवां  आदित्य                   682       भारती विद्यापीठ स्कूल बैजनाथ, कांगड़ा   

दसवां  अभय शर्मा             682       एसेंट पब्लिक स्कूल पधर, मंडी

दसवां  रुतबा शर्मा            682       गोकुल मांउटेसरी स्कूल नेहरियां, ऊना

दसवां  रोहित                     682       हिमालयन मॉडल स्कूल आनी, कुल्लू

दसवां शायरा चौहान             682       ग्लोरी इंटरनेशनल स्कूल रोहडू, शिमला

You might also like