अंबिका की पेंटिंग…रंग अनेक, संदेश एक

शिमला—राजधानी शिमला के गेयटी थियेटर में महासू आर्ट कला संस्था द्वारा चित्रकला प्रदर्शनी चलाई जा रही है। इस चित्रकला प्रदर्शनी में हिमाचल प्रदेश सहित बाहरी राज्यों से भी कलाकार भाग ले रहे हैं। महासू कला संस्था एक ऐसी कला संस्था है जो हर आर्टिस्ट की कला के महत्व को समझती है। महासू आर्ट  संस्था खास तौर पर युवाओं को चित्रकला करने के लिए प्रेरित करती है। महासू आर्ट संस्था की खास बात तो यह है कि वह यंग चित्रकार युवाआंे को एक मंच प्रदान करती है। यह संस्था न केवल हिमाचल प्रदेश अपितु बाहरी राज्यों में भी युवाआंे को चित्रकारी के लिए प्रोत्साहित करती है।  इस संस्था से जुड़े चित्रकार न केवल हिमाचल प्रदेश अपितु बाहरी राज्यों में भी अपनी चित्रकला के लिए प्रसिद्ध हैं। शिमला की अंबिका की चित्रकला गेयटी में खूब पंसद की जा रही है। अंबिका की चित्रकारी लोगों को पसंद आने की वजह यह भी है कि उन्होंने कुछ ऐसी चित्रकारी की है, जो लोगों को सोच में डाल देती है। अंबिका की बनाई गई चित्रकारी में अधिकतर लोग यह जानना चाह रहे हैं कि आखिर एक ही पेंटिंग में एक साथ हर रंग को कैसे और क्यों दिखाया गया है। इस चित्रकारी को देख कर लोगों का मन तरह-तरह के सवालों से घिर जाता है। अंबिका की चित्रकारी में कई रंगों को एक साथ मिला कर दिखाया गया है। हालांकि एक साथ सभी रंगों को एक चित्रकारी में दिखाना बहुत मुश्किल काम है, लेकिन अंबिका ने यह काम बहुत ही सुंदर तरीके से किया है।

एक इनसान के दो चेहरे

गेयटी में सजी महासू आर्ट संस्था द्वारा चित्रकला प्रदर्शनी में दिल्ली के दीपक की चित्रकारी भी लोगों को काफी भा रही है। दीपक की चित्रकारी की खास बात तो यह है कि उन्होंने बहुत ही सुंदर ढंग से लोगों को बताया है कि आज के दौर में हर एक इंसान के दो चेहरे होते हैं। जिस तरह से समाज में अपराध बढ़ रहा है। उस पर यह पेंटिंग बनाई गई है। इस चित्रकारी में उस दरिंदे व्यक्ति को दिखाया गया है जो समाज में  एक साथ लोगों के बीच में रहता है, लेकिन उसके मन में क्या चल रहा है, यह कोई नहीं जानता। समाज में लोगों के सामने उसकी एक अच्छी तस्वीर है, लेकिन वही व्यक्ति जब कुछ अपराध करता है तो उस समय उसके चहरे से वो नकाब उठ जाता है। 

You might also like