अनुराग की सुनामी, नौ की जमानत जब्त

पांच प्रत्याशी नहीं छू सके हजार का आंकड़ा, चार थे पार्टी प्रत्याशी 

हमीरपुर—लोकसभा क्षेत्र हमीरपुर से चुनावी रण में उतरे नौ प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गई। इनमें से सिर्फ चार ही उम्मीदवार एक हजार का आंकड़ा पार कर सके, जबकि पांच प्रत्याशियों के लिए इस आंकड़े के नजदीक पहुंचना भी संभव नहीं दिखा। सभी नौ प्रत्याशी कुल मिलाकर संसदीय क्षेत्र के तहत पड़ने वाले 17 विधानसभा क्षेत्रों से सिर्फ 14 हजार 688 मत ही हासिल कर सके। इनमें चार पार्टी प्रत्याशी, जबकि पांच आजाद उम्मीदवार रहे। कुल मतों का छठा हिस्सा प्राप्त न करने वाले चार पार्टी प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गई। इनमें बहुजम समाज पार्टी के उम्मीदवार देशराज को 6974 मत पड़े, सत्या बहुमत पार्टी के प्रत्याशी किशन गोपाल को 2264 मतों से संतोष करना पड़ा। आल इंडिया फारवर्ड पार्टी के कैंडीडेट तुलसी राम को 766 वोट डले जबकि बहुजन मुक्ति पार्टी के प्रत्याशी राम सिंह शुक्ला को 462 मत हासिल हुए। वहीं, संसदीय क्षेत्र हमीरपुर से पांच आजाद प्रत्याशियों ने भी अपना भाग्य आजमाया। इनमें से दो ही उम्मीदवार हजार का आकंड़ा छू सके, जबकि तीन को नाममात्र वोट मिले। इनमें विकास कुमार को 1394 मत, राधाकृष्ण नरोतरा को 1413 मत, प्रवीण ठाकुर को 695 मत, अशोक शर्मा को 400 तथा आशीष कुमार को 320 वोटों से संतुष्टि करनी पड़ी। जाहिर है कि हमीरपुर लोकसभा क्षेत्र से लोकसभा चुनाव में इस बार 11 प्रत्याशियों ने अपने दावेदारी पेश की थी। जमानत के तौर पर प्रत्येक ने 25 हजार रुपए की राशि चुनाव आयोग के पास जमा करवाई। नियम है कि प्रत्याशी को कुल मतदान की संख्या का छठा हिस्सा हासिल करने पर ही जमानती राशि वापस मिलती है। यदि कुल मतदान का छठा भाग हासिल नहीं हुआ तो जमानत जब्त हो जाती है। दुर्भाग्यपूर्ण रहा कि दो पार्टियों भाजपा व कांग्रेस को छोड़कर बाकि नौ प्रत्याशी अपनी जमानत जब्त होने से नहीं बचा सके। इनके हिस्से में सिर्फ नाममात्र ही वोट आए। यहां तक कि ये सभी नौ प्रत्याशी कुल मतदान प्रतिशतता का एक फीसदी भी हासिल कर पाने में सफल नहीं हो सके। वोट प्रतिशतता में इन सभी का आंकड़ा एक प्रतिशत से पीछे ही रह गया। हार के साथ ही इन्हें जमा करवाई गई हजारों की जमानत से भी हाथ धोना पड़ा।

You might also like