अपोलो कंपनी के  जीएम तलब

पंचायती राज विभाग के निदेशक ने हैदराबाद की फर्म को भेजा नोटिस

शिमला  – ग्रामीण कौशल योजना के तहत छात्रों को करवाए गए कोर्स में हुई गड़बड़ी पर कंपनी के जीएम को शिमला तलब किया गया है। बुधवार को शिमला में पंचायती राज विभाग के निदेशक के साथ आयोजित हुई बैठक  में प्रभावित छात्रों ने घणाहट्टी में किए जा रहे कोर्स की तस्वीर पेश की। जिस पर निदेशक राकेश कंवर ने कंपनी के जीएम को तलब किया है। बताया जा रहा है कि अब गुरुवार को सचिव के साथ एक और बैठक आयोजित की जानी तय की गई है। निदेशक ने कहा है कि इस मामले पर जीएम को बुलाया गया है। बैठक के बारे में छात्र शिवा का कहना है कि निदेशक के समक्ष कौशल योजना में कोर्स के नाम पर हुए छात्रों के  साथ हुए धोखे के बारे में बताया गया है।, जिसमें ये भी निदेशक को कहा गया कि कंपनी के अधिकारी फोन भी नहीं उठा रहे हैं।  इस दौरान एक और चौंकाने वाला खुलासा भी सामने आया है। जिसमें कंपनी की लापरवाही को लेकर पहले भी विभाग द्वारा नोटिस जारी किए गए थे। बताया जा रहा है कि कोर्स क ो चलाने के लिए विभाग द्वारा कुछ नियम तय किए गए थे,  जिस पर कंपनी पहले भी खरी नहीं उतरी थी, जिसमें खासतौर पर छात्रों की ऑनलाइन हाजिरी भेजी जानी थी, जिससे ये पता लगाया जाना था कि कितने छात्र आखिर कंपनी के तहत रजिस्टर्ड हैं। कितने छात्रों को कंपनी कोर्स करवा रही है। फिलहाल विभाग ने प्लेसमेंट के ब्यौरे पर भी सवाल उठाए गए हैं। बहरहाल गुरुवार को आयोजित बैठक में इंस्टीच्यूट ऑफ एजुके शन घणहट्टी के अधिकारी को भी मौजूद रहने के लिए कहा गया है। इंडियन इंस्ट्ीयूट ऑफ एजुकेशन हरिदेवी शिमला के प्रशासनिक अधिकारी बीडी धीमान यह पहले ही साफ कर चुके हैं कि कॉलेज प्रबंधन गत चार-पांच माह से लगभग 25 लाख रुपए के लंबित बिलों के भुगतान के बारे में बार-बार कंपनी से आग्रह कर चुका है। लेकिन अपोलो मेडिस्किलस लिमिटिड कंपनी हैदाराबाद द्वारा अभी तक उक्त राशि का भुगतान ही नहीं किया गया है।  बीडी धीमान ने कहा है कि अब कंपनी द्वारा कालेज प्रबंधन के किए जा रहे पत्राचार का जवाब भी नहीं दिया जा रहा है। 

You might also like