आईपीएच के खिलाफ  उतरे सैकड़ों ग्रामीण

गगल—आईर्पीएच विभाग की अनदेखी ने कांगड़ा और धर्मशाला हलके के हजारों लोगों को पेयजल के लिए तरसा दिया है। मामला जिला मुख्यालय से सटी पंचायत इच्छी खास का है। इच्छी खास में बिजली चालित ट्यूबवेल एक सप्ताह से खराब पड़ा है। इस एकमात्र ट्यूबवेल से कंद्रेहड़, इच्छी खास, झिकली इच्छी, मंगरेहड़ व बाग टीका आदि के करीब 15 हजार लोगों को पानी की सप्लाई जाती है। इसमें आधे गांव धर्मशाला हलके में आते हैं, तो आधे कांगड़ा में। खास बात यह कि इस इलाके का आईपीएच का डिवीजन शाहपुर आता है। ग्रामीणों ने बताया कि यह एकमात्र पुरानी मोटर आए दिन खराब रहती है, वे विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों से कई बार गुहार लगा चुके हैं, लेकिन कोई उनकी नहीं सुनता। ऐसे में बुधवार सुबह क्षेत्र के सैकड़ों ग्रामीणों ने खराब मोटर के पास खड़े होकर विभाग के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया। कंद्रेहड़ और इच्छी के ग्रामीणों शम्मी, नत्थू राम, पवन,संदीप, बलवीर, अनिता, गीता देवी, सुषमा, लक्की, शिमलो, निम्मो, वीरेंद्र, रूप सिंह, सुरेश, राजीव, संजीवन, जगदीश, राजेश और दिनेश आदि ने मांग की है कि विभाग यहां शीघ्र नई मोटर लगाए। वहीं, कंद्रेहड़ प्रधान कृष्ण कुमार ने कहा कि आईपीएच महकमे को शीघ्र इस समस्या का समाधान करना चाहिए। उधर, विभाग के जेई संजीव ने कहा कि एक दिन में मोटर को ठीक कर दिया जाएगा।

इकलौती जर्जर मोटर और हजारों लोग

पेयजल योजना का शुभारंभ 2010 में हुआ था। उस समय करीब नौ हजार ग्रामीणों और साढ़े 24 सौ छात्रों को लाभ देने का वादा किया गया था। आज हालात बदल गए हैं। जनसंख्या भी बढ़ी है, लेकिन मोटर बेहद पुरानी और जर्जर है, जिस स्थान पर यह योजना बनाई गई है, वहां खेल मैदान को काटा गया है। ग्रामीणों ने बताया कि उन्हें क्या पता था कि सरकार और विभाग उनकी ऐसी अनदेखी करेगा।

You might also like