‘आओ पेपे घर चलिए’ पुस्तक का लोकार्पण

अमृतसर। खालसा कालेज के प्रिंसीपल डा. महल सिंह की ओर से पंजाबी विभाग में प्रो. गुरशिंदर सिंह की अनुवादित पुस्तक ‘आओ पेपे घर चलिए’ रिलीज की गई। यह पुस्तक प्रमुख हिंदी उपन्यासकार व नारीवादी चिंतक प्रभा खेतान के हिंदी उपन्यास ‘आओ पेपे घर चले’ का पंजाबी अनुवाद है। पुस्तक को रिलीज करते हुए प्रिंसीपल महल सिंह ने कहा कि कालेज अपने शुरुआती समय से ही पंजाबी भाषा व साहित्य का प्रमुख अध्ययन केंद्र रहा है। यहां सबसे पहले एमए पंजाबी की पढ़ाई शुरू हुई। एमफिल व पीएचडी शुरू करने वाला यह यूनिवर्सिटी का पहला कालेज है। भविष्य में भी यह कालेज पंजाबी अध्ययन का प्रमुख केंद्र बन रहा है। उन्होंने कहा कि यहां के मेहनती अध्यापकों के फलस्वरूप ही इस विभाग का पंजाबी अध्ययन में जिक्र होता है। उन्होंने डा. गुरशिंदर कौर को एक मूल्यवान पुस्तक के अनुवाद के लिए बधाई दी। इस अवसर पर डा. सुखमीन बेदी, डा. दलजीत सिंह, डा. भूपिंदर सिंह, डा. परमिंदर सिंह, डा. कुलदीप सिंह, डा. मिन्नी सलवान, डा. हरजीत सिंह, डा. जसबीर सिंह, डा. अमनदीप कौर थिंद, डा. गुरिंदर कौर, डा. पूजा, डा. पवन कुमार, प्रो. आरती व प्रो. बलजिंदर सिंह मौजूद थे।

You might also like