आग ने निगला ‘बादल’… ऊना दहला

हरोली—हरोली विधानसभा क्षेत्र लगातार हो रही आग की घटनाओं से दहल उठा है। उपमंडल में एक सप्ताह में दो मासूम बच्चे जिंदा जल गए हैं। आग की बढ़ रहे वारदातों से हर कोई दहशत में है। आग की बढ़ती घटनाओं को लेकर प्रशासन द्वारा चलाए गए जागरूकता अभियान दम तोड़ते नजर आ रहे हैं। जिला में एक माह में प्रवासी मजदूरों की करीब 145 झुग्गियां जलकर राख हो गई हैं। इन घटनाओं में गत सोमवार को बाथड़ी में झुग्गियों की आग में एक तीन वर्षीय बच्चे की जिंदा जलने से मौत हो गई थी, जबकि दो व्यक्ति बुरी तरह से झुलस गए थे। अब एक बार फिर से सोमवार को ही उपमंडल हरोली के पंडोगा में दिल दहलाने वाले आग की घटना घटी है। इसमें बिहार के प्रवासी मजदूरों का एक सात साल का मासूम आग की भेंट चढ़ गया। मृतक बादल कुमार की आग में जलने से मौत होने पर इसका पिता सुबोध मेहतो फूट-फूट कर रोया और कह रहा था कि उसकी पत्नी सुभद्रा भी करीब तीन माह पूर्व उसका साथ छोड़कर हमेशा के लिए चली गई। हादसे को देखकर हर किसी की आंख पसीज गई और प्रवासियों में नन्हें बाल के हमेशा के लिए खो जाने को लेकर वरलाप का माहौल रहा। जिसके चलते लोगों ने आगे आकर पीडि़तों को ढांढस बंधाया। बताते चलें कि जिला में गर्मी के बढ़ने के साथ ही आग की घटनाएं बढ़ती जा रही है। आग के प्रति आम लोगों को जागरूक करने के लिए चलाए प्रशासनिक अभियान फेल हो गए हैं। प्रवासी मजदूरों को आग के प्रति जागरूक करने का कोई भी असर दिखाई नही  दे रहा है और जिला में आग के निशाने पर भी प्रवासियों की झुग्गियां ही रही हैं। प्रवासी आग के प्रति लापरवाही भी अधिक बरतते हैं। हर रोज कार्य करने के लिए झुग्गियों से बाहर चले जातें हैं और नन्हें बच्चों को झुग्गियों मेंे छोड़ जाते हैं। बच्चों द्वारा भी आग के प्रति लापरवाही सामने आती है। इस कारण एक चिंगारी प्रवासी मजदूरों की झुग्गियों को स्वाह करती रही हैं। हालांकि आग की घटनाओं में आग लगने के कारणों की स्थिति को कोई भी स्पष्ट नहीं कर पाता, लेकिन इसी लापरवाही की भेंट प्रवासी मजदूरों के बच्चे चढ़ रहे हैं। प्रवासी मजदूरों को आग के प्रति जागरूक करने के लिए प्रशासनिक स्तर पर कोई भी विशेष अभियान नही चलाया गया है। जिसके चलते आग की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं। वहीं, एसडीएम हरोली गौरव चौधरी ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को आग के प्रति जागरूक करने के लिए अभियान चलाया जाएगा। आग की घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो इसके लिए भूमि मालिक व ठेकेदारों को निर्देश जारी किए जाएंगे।

You might also like