आदर्श बनने को तरस रहा लोअर देहलां!

सांसद के प्रयासों व करोड़ों रुपए खर्च होने के बाद भी लोगों को नहीं मिल पा रही सुविधाएं

 ऊना —सांसद आदर्श गांव योजना के तहत ऊना विधानसभा क्षेत्र का लोअर देहलां गांव चुना गया है, लेकिन अभी भी यह गांव आदर्श नहीं बन पाया है। अभी यहां के लोग कई मूलभूत सुविधाओं से जूझ रहे हैं। सांसद आदर्श योजना के तहत गांव को आदर्श बनाने के लिए करोड़ों रुपए की राशि खर्च की गई है, लेकिन उसके बावजूद इस गांव की तस्वीर नहीं बदल पाई है। हालांकि स्थानीय पंचायत और सरकार के संयुक्त प्रयासों के चलते इस गांव को आदर्श बनाने के प्रयास लगातार जारी हैं। अभी भी लाखों रुपए के विकास कार्य यहां पर जारी हैं, लेकिन चार साल बीत जाने के बाद भी यह गांव आदर्श बनने का इंतजार कर रहा है। हमीरपुर लोकसभा चुनाव क्षेत्र के अंतर्गत ऊना विधानसभा क्षेत्र के आदर्श गांव लोअर देहलां को वर्ष 2015 में अनुराग ठाकुर ने सांसद आदर्श गांव योजना के तहत गोद लिया था, लेकिन इस गांव को पूरी तरह से आदर्श बनाने के लिए किए गए प्रयास सफल नहीं हो पाए हैं। लोअर देहलां गांव को सांसद आदर्श गांव योजना के लिए चयनित तो कर लिया गया, लेकिन अभी तक आदर्श गांव के विकास के लिए न ही कोई समय सीमा निर्धारित हो पाई और न ही फिक्स बजट का प्रावधान हो पाया है। वर्ष 2019 तक गांव के लोगों को कई सुविधाएं भी मुहैया करवाई गई हैं। सांसद आदर्श गांव में सांसद निधि से पिछले चार साल के दौरान मात्र आठ लाख रुपए की राशि खर्च हुई है। दूसरी ओर अन्य विकास कार्यों गांव में लाखों की राशि खर्च हो चुकी है। हालांकि आदर्श गांव को विकसित करने के लिए विलेज डिवेलपमेंट कमेटी भी बनाई गई थी। इसके तहत लाखों, करोड़ों के प्रोजेक्ट तैयार किए थे, लेकिन अधिकतर प्रोजेक्ट फाइलों में ही दबकर रह गए। बता दें कि वर्तमान में लोअर देहलां गांव में मनरेगा में प्रदेश का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट चला हुआ है। करीब डेढ़ करोड़ के इस प्रोजेक्ट में जहां मनरेगा मजदूरों को काम मिला हुआ है, वहीं इसके तहत ऐसे नाले के पानी की निकासी का कार्य किया जा रहा है जो नाला बरसात में काफी कहर बरपाता था। वहीं, यह नाला अब तक कई लोगों की जान भी ले चुका है।  उधर, स्थानीय ग्रामीण रतन चंद भारद्वाज व दिनेश का कहना है कि आदर्श गांव योजना में चुने जाने के बाद गांव के विकास कार्य तो हुए, लेकिन अभी भी अधिकतर कई ऐसे विकास कार्य हैं, जो सिरे नहीं चढ़ पाए हैं। स्थानीय प्रधान के प्रयास भी बेहतर रहे हैं। उन्होंने कहा कि गांव में जो कार्य लंबित पड़े हैं, उन्हें जल्द पूरा किया जाना चाहिए।

लोगों की भूमिका अहम

सांसद अनुराग ठाकुर ने पिछले दिनों जब आदर्श गांव देहलां का दौरा किया तो गांव को आदर्श बनाने में आम जनता   की भूमिका को भी अहम बताया। सांसद ने लोअर देहलां के लोगों कोसाफ-सफाई का महत्त्व भी बताया था, ताकि लोग भी गांव को आदर्श बनाने में अपनी भूमिका निभाएं। जापान का उदाहरण देते हुए सांसद ने इशारों में गांव को आदर्श बनाने में स्थानीय लोगों का योगदान नहीं होने की बात कही थी। सांसद ने बताया कि जापान में यदि कोई व्यक्ति किसी जगह पर चाय पीता है तो वहां पर यदि कोई कूड़ेदान न हो तो व्यक्ति उस खाली गिलास को इधर-उधर नहीं फेंकता है। वह इसे अपने साथ ले जाकर आफिस, घर या अन्य स्थान पर कूड़ेदान में ही फेंकता है।

गांव में हुए ये काम

  1. गांव में विभिन्न विकास कार्यों पर सांसद निधि से अब तक आठ लाख की राशि खर्च
  2. कई लोगों की जान लेने वाले नाले के पानी की निकासी के लिए एक करोड़ 21 लाख से कार्य जारी
  3. लोक निर्माण विभाग 15 लाख की राशि से बना रहा पुल
  4. गांव में लड़के व लड़कियों के लिए बास्केटबाल के अलग-अलग मैदान 15-15 लाख से हुआ निर्माण
  5. पंडित दीन दयाल उपाध्याय योजना के तहत गांव में एक करोड़ 42 लाख रुपए की राशि खर्च, लोगों को बेहतर मिल रही विद्युत आपूर्ति
  6. गांव में डोर-टू-डोर योजना की सफलतापूर्वक शुरुआत। हर घर से लिए जाते हैं 30 रुपए

 

You might also like