आपत्तिजनक मैसेज भेजने पर अफसर को नोटिस

रुद्रपुर – विभागीय अफसरों के बीच समन्वय बनाने के लिए बनाए गए व्हाट्सऐप गु्रप में आपत्तिजनक मैसेज भेजने पर सितारगंज के प्रभारी सब रजिस्ट्रार को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। साथ ही उन्हें बाजपुर संबद्ध कर दिया गया है। इस व्हाट्सऐप गु्रप से करीब जिले के करीब 200 अधिकारी और प्रभारी जुड़े हुए हैं। जानकारी के मुताबिक, सितारगंज के प्रभारी सब रजिस्ट्रार/निबंधन लिपिक प्रताप सिंह बोरा ने चार मई को देर शाम एक आत्तिजनक मैसेज व्हाट्सएप ग्रुप में भेज दिया। इस मैसेज के मिलने के बाद एक प्रशासनिक अधिकारी ने तत्काल इसे डिलीट करने के निर्देश दिए। लेकिन यह मैसेज डिलीट नहीं किया गया। इसके बाद प्रशासनिक अधिकारी ने इस मामले में सहायक महानिरीक्षक निबंधन एएस चौहान से पांच मई को पूरे मामले की जानकारी ली। मामला संगीन होने पर इस मामले में चौहान ने तत्काल सितारगंज के प्रभारी सब रजिस्ट्रार को कारण बताओ नोटिस जारी कर तत्काल अपना जवाब देने के निर्देश दिए। बावजूद इसके उन्होंने अपना लिखित में जवाब नहीं दिया। इस पर सहायक महानिरीक्षक निबंधन चौहान ने उन्हें बाजपुर सब रजिस्ट्रार कार्यालय से संबद्ध करने के आदेश जारी किए हैं। व्हाट्सऐप पर आपत्तिजनक सामग्री डाले जाने पर शिकायत होने पर आईटी एक्ट में भी कानून कार्रवाई का प्रावधान है। प्रभारी सब रजिस्ट्रार को भेजे गए नोटिस में इस बात को इंगित करते हुए कहा गया है कि गु्रप से 200 से अधिक अधिकारी जुड़े हुए हैं। इसके बाद भी इस तरह की सामग्री किन कारणों से इसमें डाली गई। यह कर्मचारी सेवा नियमावली के भी खिलाफ है।

मोबाइल गुम होने का लगाया बहाना

नोटिस का प्रभारी सबरजिस्ट्रार ने लिखित जवाब नहीं दिया है। सहायक महानिरीक्षक निबंधन एएस चौहान ने बताया कि प्रभारी सब रजिस्ट्रार ने अपना मोबाइल फोन गुम होने की मौखिक जानकारी दी है। साथ ही कहा है कि यह मैसेज उन्होंने गु्रप में नहीं डाले। मोबाइल गुम होने के संबंध में उन्होंने सितारगंज कोतवाली में तहरीर भी दी है।

चक्रवात पीडि़तों को भेजी सहायता

पौड़ी – राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के कार्यकर्ताओं ने चंदा इक्टठा कर चक्रवात पीडि़तों को राहत राशि भेजी है। पौड़ी में आरएसएस के स्वयं सेवियों ने बाजार क्षेत्र में भ्रमण कर व्यापारियों से चंदा एकत्र किया। उन्होंने एकत्र चंदे को ओडिसा राज्य के फेनी चक्रवात पीडि़तों को भेजा। जिला कार्यवाह संजय मंमगाई ने बताया कि चंदे में 7860 की धनराशि जमा की गई है, जिसे चक्रवात पीडि़तों को भेज दिया गया है। इस अवसर पर प्रचारक गोविंद राठौर, दिनेश बिष्ट, विपुल, संदीप बड़थ्वाल आदि थे।

You might also like