इस बार अरुण जेटली नहीं बनेंगे वित्त मंत्री

नई दिल्ली – नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली दोबारा वित्त मंत्रालय का कार्यभार नहीं लेंगे। मामले से जुड़े सूत्रों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि अरुण जेटली वित्त मंत्रालय में शीर्ष पद को लेकर इस बार कोई दिलचस्पी नहीं दिखा सकते हैं, क्योंकि पिछले कुछ महीनों में उनकी सेहत में काफी गिरावट आई है। उन्होंने कहा कि वह निश्चित तौर पर वित्त मंत्री नहीं बनने जा रहे हैं, क्योंकि उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं है। हो सकता है कि वह थोड़ा कम तनाव वाला कोई मंत्रालय संभालें। गौरतलब है कि 2019 के आम चुनाव में बीजेपी अकेले दम पर 300 से अधिक सीटें जीतने में सफल रही है। श्री जेटली ने इस बारे में पूछे गए सवाल का जवाब नहीं दिया, न तो उन्होंने मैसेज का जवाब दिया और न ही टेलीफोन उठाया। जेटली के निजी सचिव एसडी राणाकोटी तथा सहायक सचिव पद्म सिंह जामवाल ने इस बारे में ई-मेल में पूछे गए सवाल का तत्काल कोई जवाब नहीं दिया। उनके ओएसडी पारस संखला ने भी टेलीफोन कॉल, मेल या मैसेज का कोई जवाब नहीं दिया। बीजेपी और सरकार में नरेंद्र मोदी तथा अमित शाह के बाद तीसरे सबसे दिग्गज नेताओं में से एक जेटली गुरुवार रात बीजेपी मुख्यालय में हुए समारोह में शिरकत करने नहीं जा पाए। पिछले दो सप्ताह से वह सार्वजनिक तौर पर कहीं दिखाई नहीं पड़े हैं, हालांकि वह ब्लॉग लिख रहे हैं और सोशल मीडिया पर मैसेज भी डालते रहे हैं।

पीयूष गोयल को मिल सकती है जिम्मेदारी

नई दिल्ली – सूत्रों के मुताबिक मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में वित्त मंत्री अरुण जेटली दोबारा वित्त मंत्रालय का कार्यभार नहीं लेंगे। इसकी वजह उनकी सेहत ठीक न होने को बताया जा रहा है। अगर जेटली पद स्वीकार नहीं करते हैं तो केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल को वित्त मंत्रालय या दोनों मंत्रालयों का प्रभार दिया जा सकता है।

कैबिनेट मीटिंग में भी नहीं आए

देश की जनता ने बीजेपी को ऐतिहासिक जनादेश दिया है और पार्टी ने 300 से ज्यादा सीटें जीती हैं। अब चर्चा इस बात को लेकर हो रही है कि 17वीं लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नई कैबिनेट किसे कौन सा पोर्टफोलियो मिलेगा? केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी, निर्मला सीतारमण, मेनका गांधी, पीयूष गोयल, प्रकाश जावड़ेकर आदि शामिल हुए। तबीयत ठीक नहीं होने के कारण अरुण जेटली केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में भी नहीं पहुंचे।

You might also like