एचपीयूः रात को धरने पर बैठे छात्र

होस्टल के अंदर न जाने पर रात को जताया विरोध, दस बजे के बाद लाइब्रेरी में एंट्री देने की उठाई मांग

शिमला -प्रदेश विश्वविद्यालय में होस्टल में एंट्री न मिलने के मामले पर एक बार फिर छात्रों का गुस्सा चरम सीमा पर पहुंच गया है। एचपीयू में मंगलवार रात के समय छात्रोंं ने इस मामले को लेकर प्रदर्शन किया। इस दौरान शहीद भगत सिंह होस्टल के बाहर प्रदर्शन करीब दो घंटे तक चला। प्रदर्शन के दौरान छात्रों ने होस्टलों से रात दस बजे के बाद बाहर जाने की अनुमति देने की मांग की। छात्रों की मांग है कि जो छात्र रात दस बजे के बाद विश्वविद्यालय की 24 घंटे खुली रहने वाले लाइब्रेरी में जाने की अनुमति मांग रहा है, उसे यह अनुमति दी जाए। हुआ यह कि मंगलवार को रात के समय कुछ छात्र देरी से होस्टल पहुंचे और जब वे होस्टल पहुंचे, तो गेट बंद हो चुका था। इसके बाद छात्रों ने रोष व्यक्त करते हुए इसका विरोध किया। इसके बाद विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने उन छात्रों को चेतावनी के साथ होस्टल में जाने की अनुमति दे दी। साथ ही यह भी कहा गया कि प्रदेश विश्वविद्यालय के होस्टलों से दस बजे के बाद बाहर जाने की अनुमति नहीं है। उधर, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के होस्टलोंं से रात दस बजे के बाद आउटिंग पर लगी रोक का मामला अब फैक्ट फाइंडिंग कमेटी के समक्ष उठेगा। आगामी दिनों में इस मामले को लेकर कमेटी की बैठक होगी। इस बैठक में होस्टलों की स्थिति की भी समीक्षा होगी और स्थिति सामान्य होने पर ही होस्टलोंं से रात दस बजे के बाद आउटिंग पर लगी रोक को हटाने पर विचार होगा। छात्र संगठन बीते कई दिनों से लगातार होस्टलों से रात दस बजे के बाद आउटिंग पर लगे प्रतिबंध को हटाने की मांग कर रहे हैं। एसएफआई भी मांग कर रही है कि जो विद्यार्थी रात 10 बजे के बाद विश्वविद्यालय की 24 घंटे ख्ुाली रहने वाले लाइब्रेरी में जाना चाहते है, उन्हें जल्द अनुमति दी जाए।

 

You might also like